गोड्डा: स्ट्रेस मैनेजमेंट वर्कशॉप में जिले के पुलिस अधिकारी हुए शामिल, Video

गोड्डा/झारखंड:  सेहतमंद और स्वास्थ रहना हर किसी की चाहत होती है। लेकिन बिगड़ चुकी लाइफस्टाइल के वजह से ऐसा ही पाना मुश्किल हो जाता है। और एक वक्त वो आता है जब ज़िन्दगी जीने का लिए दवाई की बैसाखी का सहारा लेना होता है। सच ये भी है कि अगर कुछ छोटी लेकिन बेशकीमती बातों का खयाल रखा जाए तो ज़िन्दगी को जिंदादिली के साथ जी जा सकती है।

शरीर को बीमारी से दूर रखने और रोजाना की व्यस्तता और काम के तनाव तो मैनेज करने की तरकीब यहां बताई जा रही है। इस स्ट्रेस मैनेजमेंट वर्कशॉप में मॉर्निंग वॉक के तरीके से लेकर हाई-लो ब्लडप्रेशर, डायबिटीज एक्यूप्रेशर से जुड़ी जानकारी दी गई। एसपी राजीव रंजन सिंह ने कहा कि पुलिस का काम चौबीस घंटे का काम होता है। ऐसे में स्ट्रेस होना वाजिब है। लेकिन उस स्ट्रेस को कैसे मैनेज किया जाए और मेडिसीन फ्री जिंदगी कैसे जिया जाए इसी के बारे में इस वर्कशॉप में बताया जाएगा।

जिले के पुलिस अधिकारी ध्यान से जिंदगी के लिए संजीवनी समान इन शब्दों को सुन रहे थे, कुछ छूट न जाए इसलिए लिख भी रहे थे। पुलिस विभाग ले बड़े साहब से लेकर बड़ा बाबू और छोटा बाबू तक जिस तरह से इन बातों को सुन रहे है वो बताने के किये काफी है कि एक सेहतमंद ज़िन्दगी की चाहत सभी को है, लेकिन आलस और देखते हैं, करते है वाली सोच उस ओर कदम बढ़ाने से रोक देती है। लेकिन एक ईमानदार कोशिश जिंदगी जीने का माज़ा कई गुणा बढ़ा सकता है।

Loading...