गोड्डा: एक और पारा शिक्षक की मौत, चार महीने से नहीं मिला था मानदेय

गोड्डा/झारखंड:  पारा शिक्षकों की दुर्दशा की बात कई बार सरकार तक पहुंचाई जा चुकी है। लेकिन हालात में कुछ खास बदलाव नहीं हुआ है। यही वजह है कि वक्त वक्त पर पारा शिक्षकों की तरफ से अपनी बदहाली की कहानी सरकार तक पहुंचाई गई है। लेकिन पारा शिक्षकों की आवाज सिस्टम की उस दीवार को पार नहीं कर पाई जिसके उस पार सरकार है और इस पार पारा शिक्षक अपनी मांगों को लेकर खड़े हैं।

अगर गोड्डा जिले की बात करें तो बोआरीजोर के तीन से चार पारा शिक्षक आर्थिक तंगी की वजह से मौत हो चुकी है।जिसके बाद अब पुनः उत्क्रमित प्राथमिक विद्यालय हर्रा बोआरीजोर के पारा शिक्षक तेजनारायण साह की हिम्मत नेलम्बे समय तक जिन्दगी की जंग लड़ने के बाद आखिरकार मौत के आगे समर्पण कर दिया। उनकी मौत गुरुवार को हुई।बताया जा रहा है कि पारा शिक्षक तेजनारायण साह को पिछले चार माहीने से मानदेय नहीं मिला था।

उनकी मौत की खबर से प्रखंड के पारा शिक्षकों में मातम छाया है। मौके पर एकीकृत पारा शिक्षक संघर्ष मोर्चा के सदस्यों ने मृतक के घर पर पहुंच कर परिवार को ढाढ़स देते हुए कुसुमघाटी संकुल अध्यक्ष मनोज साह के द्वारा दाह संस्कार हेतु 2000 रूपये नगद राशि दिया गया। मौके पर प्रखंड अध्यक्ष राजीव राय,कोषाध्यक्ष  सच्चिदानंद पंडित,ओमप्रकाश जयसवाल, बीरेंद्र दत्ता, नीरज कुमार, मनोज साह आदि गणमान्य शिक्षक उपस्थित थे ।

Loading...

Leave a Reply