गोड्डा: गौवंश की हत्या करने, तस्करी करने पर होगी जेल, प्रशासन सख्त

गोड्डा/झारखंड:  राज्य सरकार की तरफ से हर जिले के प्रशासनिक अधिकारियो को गोवंश की तस्करी, गो वंश की हत्या या कुर्बानी देनेवालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के निर्देश दिये गए हैं। इसे लेकर गोड्डा में भी प्रशासनिक अमला ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए अपनी तैयारी कर रहा है। इसे लेकर उपायुक्त किरण कुमार पासी के नेतृत्व में जिले के आला अधिकारियों के साथ बैठक की गई।

इस बैठक में सभी थाना प्रभारी, एसपीसीए निरीक्षक को एसपी राजीव रंजन सिंह के द्वारा निर्देश दिया गया कि किसी भी प्रकार के पशु का अवैध तरीके से तस्करी किया जा रहा हो तो उसपर सख्ती से रोक लगाई जाए। इस बैठक में डीसी की तरफ से पथरगामा और पोड़ैयाहाट में पशुओं के लिए शरणास्थली बनाने का भी फैसला लिया गया है।

पशुओं के इस शरणास्थली के लिए अंचलाधिकारी को जमीन मुहैया कराने के निर्देश दिये गए हैं। साथ ही हर प्रखंड में पशु क्रूरता का होर्डिंग और सेमिनार करने के भी निर्देश दिये गए हैं। इस बैठक में एसपी राजीव रंजन सिंह, एसडीओ गोड्डा नमन प्रियेश लकड़ा, जिला वन प्रमंडल पदाधिकारी, जिला पशुपालन पदाधिकारी और एसपीसीए निरीक्षक मौजूद थे।

राज्य जीव जंतु कल्याण बोर्ड की तरफ से भी सोशल मीडिया में सूचना प्रसारित की जा चुकी है कि गौवंशीय पशु (गाय, बछड़ा, बछिया, सांड या  बैल) ऊंट आदि को काटना या कुर्बानी देना या इसके लिए खरीदना, बेचना, परिवहन करना संग्रह करना संज्ञेय अपराध है। ऐसा करने वाले को झारखंड गोवंशीय पशु हत्या प्रतिषेध अधिनियम, आईपीसी, पीसीए एक्ट, एफएसएसए एक्ट, केंद्रीय व राज्यों द्वारा गठित विभिन्न अधिनियमों के प्रावधानों में गिरफ्तार किया जा सकता है।

राज्य जीव जंतु कल्याण बोर्ड की तरफ से नागरिकों से ये निवेदन भी किया गया है कि ऐसे मामले सामने आने पर इसकी जानकारी 100 पर तुरंत पुलिस को दें। जानकारी देनेवालों का नाम गुप्त रखा जाएगा।

Loading...