गोड्डा: 22 दिन पहले अगवा नाबालिग लड़की का अबतक सुराग नहीं, पुलिस खाली हाथ

दरअसल गर्मी की वजह से पूरा परिवार छत पर रात को सो रहा था। तीन बजे सभी की नींद खुल गई थी। जिसके बाद सरिता के पिता ने उससे नीचे जाकर मेन गेट का ताला खोलने को कहा।

परिजनों के मुताबिक इसके बाद शेख मुसाहिद ने सरिता को जबरन मोटरसाइकिल बिठा लिया और खुद पीछे बैठ गया। जबतक घरवाले छत से नीचे आते उतनी देर में दोनों सरिता को लेकर वहां से चले गए। इसके बाद गांव में ही उनके परिचित विदेश्वरी ठाकुर ने भी उन्हें सरिता के बारे में जानकारी दी।

परिजनों के मुताबिक विदेश्वरी ठाकुर ने उन्हें जानकारी दी कि ताड़वाला पोखर के पास दो और लड़कों ने अपनी मोटरसाइकिल से चादर निकालकर सरिता का मुंह ढक रहा था। यह सब देखकर जब विदेश्वरी ठाकुर उनकी तरफ बढ़े तो वो सभी सरिता को लेकर वहां खड़ी एक बोलेरो गाड़ी में लेकर फरार हो गए। परिजनों के मुताबिक जिस बोलेरो गाड़ी में सरिता को ले जाया गया वो गांव के ही मोहम्मद अनसार का  है।

परिजनों ने जानकारी दी है कि इसके बाद उन लड़कों के घर पहुंचकर जब इस बारे में उन्हें बताया गया तो आरोपियों के घरवालों का कहना था कि इस बारे में कोई जानकारी नहीं है, आप को जो करना हो कर दीजिये। सरिता के परिजनों की तरफ से 11 आरोपियों के नाम पुलिस को बताए गए हैं। जिनके नाम हैं शेख मोसाहिद उर्फ गोल्डन, शेख ओसाहिद, शेख कमाल, शेख कलाम, मो. जमशेद, सरूल खातून, अरुण कुमार यादव समेत कुल 11 लोगों पर सरिता को अगवा करने का आरोप लगा है।

इस घटना के बारे में सरिता के पिता से newstrendindia ने जब बात की तो पता चला पुलिस इस मामले में अबतक इसलिए खाली हाथ है क्योंकि उन लड़कों के मोबाइल का लोकेशन पुलिस को नहीं मिल रहा है।

सरिता के पिता ने बताया कि आज से तकरीबन 6 महीने पहले भी उनकी बेटी सरिता के साथ आते-जाते छेड़छाड़ या कमेंट किया जाता था उन लड़कों की तरफ से। चुंकी वो गांव के ही थे इसलिए उनसे सरिता के पिता ने बात की जिसपर उन्होंने माफी मांगी थी और आगे से ऐसा नहीं करने की बात कही थी।

यहां कुछ सवाल newstrendindia की तरफ से भी उठाए जा रहे हैं

जब पुलिस में 20 मई को शिकायत दर्ज की गई तो उसके बाद पुलिस ने तुरंत सक्रियता क्यों नहीं दिखाई?

क्या सभी आरोपियों के परिवारवाले भी लापता हो गए?

क्या पुलिस की जांच मोबाइल सिग्नल के भरोसे आगे बढ़ेगी?

जिस बोलेरो में सरिता को ले जाया गया उस गाड़ी के बारे में पुलिस जानकारी जुटाने में नाकाम कैसे हो गई?

पिछले 22 दिनों में पुलिस की जांच में क्या निकलकर सामने आया?

एक सवाल ये भी बनता है कि क्या आरोपियों को पहले से पता था कि सुबह तीन बजे सरिता घर का ताला खोलने बाहर आएगी। क्योंकि जिस तरह की जानकारी दी गई है कि पहले बाइक पर सरिता को जबरन बिठाया गया उसके बाद बोलेरो में ले जाया गया और कुछ ही दूरी पर कुछ और लड़के भी उनके साथ मिल गए। तो क्या अगर सरिता घर का ताला खोलने नहीं निकलती तो उसे घर के भीतर से उठा कर ले जाने की साजिश रची गई थी।

(Visited 74 times, 1 visits today)
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *