गोड्डा: घटिया बिजली आपूर्ति का ‘विलेन’ कार्यपालक अभियंता को हटाने की मांग

गोड्डा/झारखंड:  शहर में बिजली की समस्या कोई नई बात नहीं है। सालों से बिजली विभाग की मनमानी और घटिया बिजली आपूर्ति की वजह से शहरवासी रोजाना परेशान रहते हैं। लेकिन इसमें सुधार के लिए ना तो बिजली विभाग ने किसी तरह की गंभीरता अभी तक दिखाई है और ना ही उन जन प्रतिनिधियों की सक्रियता दिखी है जिनके एजेंडे में सबसे ऊपर ये बात लिखी होती है कि वो जनता की तकलीफ को अपनी तकलीफ समझेंगे और उसे दूर भी करेंगे।

शहर में बिजली विभाग की मनमानी के खिलाफ रविवार को अशोक स्तंभ पर बेहद ही अहम बैठक की गई। जिसमें निर्णय लिया गया कि 3 अक्टूबर को उपायुक्त किरण कुमारी पासी को ज्ञापन सौंपकर कार्यपालक अभियंता तथा संवेदक को हटाने की मांग की जाएगी। मांग पूरी ना होने पर आंदोलन को उग्र किया जाएगा।

विभाग पर गंभीर आरोप है कि बिजली को लेकर धरना, भूख हड़ताल और बिजली दफ्तर का घेराव तक हो चुका है। लेकिन इसका असर तात्कालिक रहा। यानि जबतक विरोध के ये तरीके अपनाए गए उस दौरान बिजली सही रही लेकिन हफ्ते भर बाद ही सबकुछ पुराने ढर्रे पर आ जाता है।

विभाग की इसी मनमानी और कुंभकर्णी नींद के खिलाफ उसी अशोक स्तंभ पर नगर के वासी इकट्ठा हुए जहां कुछ महीने पहले समाजसेवी बच्चू झा ने शहर की बिजली समस्या को लेकर 52 घंटे का आमरण अनशन किया था। बैठक की अध्यक्षता युवा समाजसेवी सौरभ परासर उर्फ बच्चू झा तथा संचालन  सुरजीत झा ने की। बैठक में नगर के युवाओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया और बिजली व्यवस्था कैसे ठीक हो इसकी  रणनीति तैयार की।

बैठक में भाजयुमो जिलाध्यक्ष संतोष कुमार, करणी सेना के जिलाध्यक्ष नितेश सिंह बंटी नरेंद्र मिश्रा, नितेश कुमार मिश्रा, मलिक, दिवाकर मिश्रा, नरेंद्र महतो, सज्जाद आलम, शैलेंद्र यादव, मनी कुमार, राजेश भगत, बाल्मीकि शर्मा, दिनकर मिश्र, मोहम्मद सोनू, अशोक कुमार मंडल, प्रेमजीत शाह व मो. इस्लाम सहित अनेक सामाजिक कार्यकर्ता शामिल थे।

(Visited 45 times, 1 visits today)
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *