गोड्डा: जल्द कराएं ‘कमल क्लब’ का रजिस्ट्रेशन, युवाओं के लिए लाभकारी योजना

गोड्डा/झारखंड: राज्य के युवाओं को सांस्कृतिक, सामाजिक, साहित्यिक, कला, खेलकूद, विकास कार्य, कैशल विकास एवं अन्य लोक कल्याणकारी गतिविधियों से जोड़ने और उन्हें अपनी प्रतिभा को निखारने के लिए ‘कमल क्लब’ के गठन का निर्णय लिया गया है। इसके लिए सभी प्रखंड के प्रखंड विकास पदाधिकारी को निर्देश दिया गया है कि 5 जुलाई तक हर पंचायत में कमल क्लब का रजिस्ट्रेशन कराना सुनिश्चित करें।

उपायुक्त ने आदेश दिए हैं की जैसे ही  रजिस्ट्रेशन कार्य पूरा होगा हर पंचायत में खेल का कार्यक्रम किया जाएगा और युवाओं को इससे जोड़ा जाए। इस कार्यक्रम में उपायुक्त ने यह भी कहा कि अभी कमल क्लब के सदस्य काफी सक्रिय हैं और कमल क्लब के सदस्य जल शक्ति अभियान में भी अहम भूमिका निभायेंगे।

मौके पर कमल क्लब के जिला अध्यक्ष मनीष आनंद ने बताया कि हर पंचायत में कमल क्लब का टीम गठित किया गया है और अभी रजिस्ट्रेशन कार्य चल रहा है। उपायुक्त के आदेशानुसार जल्द ही रजिस्ट्रेशन का कार्य पूरा कर लिया जायेगा। रजिस्ट्रेशन के लिए प्रखंड कार्यालय में जाकर रजिस्ट्रेशन कराना सुनिश्चित करें ,और कोई परेशानी हो तो  बीडीओ से मिलकर रजिस्ट्रेशन कराना सुनिश्चित करेंगे । और सभी कमल क्लब के सदस्यों को प्रधानमंत्री के द्वारा चलाया जा रहा है जल शक्ति कार्यक्रम में भी अहम भूमिका निभाना है और हर घर जा जाकर कार्यक्रम को सफल बनाना है

कैसे करें ‘कमल क्लब’ का गठन?

पंचायत स्तर पर एक आम सभा की जाएगी। जिसमें कमल क्लब के गठन के लिए अस्थायी समिति का गठन किया जाएगा। यह स्थायी समिति 40 वर्ष से नीचे आयु वर्ग के सभी युवाओं को कमल क्लब का सदस्य बनाएगी। जिसके बाद ये सदस्य निर्वाचन के द्वारा क्लब के पदाधिकारियों एवं कार्यकारिणी के सदस्यों का चयन करेंगे। कमल क्लब के पद धारक की उम्र 18 से 40 वर्ष निर्धारित है।

कमल क्लब के निर्वाचित पदाधिकारियों में एक ही परिवार या ब्लड रिलेशन के व्यक्तियों का एक से अधिक पदों पर निर्वाचन मान्य नहीं होगा। पंचायत स्तर पर गठित कमल क्लब अपना, संस्था निबंधन अधिनियम 1860 (सोसायटी रजिस्ट्रेशन एक्ट 1860) के तहत निबंधन कराएंगे।

एक पंचायत के अंतर्गत आनेवाले गांव के युवा (अधिकतम उम्र 40 वर्ष) अपने गांव में ग्राम कमल क्लब का गठन कर पंचायत स्तरीय निबंधित कमल क्लब से जुड़ेंगे।

प्रखंड के सभी पंचायतों के कमल क्लब के पदाधिकारी एवं कार्यकारिणी समिति के सदस्यगण बैठक कर प्रखंड स्तरीय कमल क्लब का गठन करेंगे। निर्वाचन के द्वारा प्रखंड स्तरीय कमल क्लब के पदाधिकारियों एवं कार्यकारिणी सदस्यों का निर्वाचन करेंगे। इस निर्वाचन पर भी उपर दी गई शर्तें लागू होंगी। प्रखंड स्तरीय कमल क्लब का रजिस्ट्रेशन भी 1860 (सोसायटी रजिस्ट्रेशन एक्ट 1860) के तहत होगा।

एक जिले के सभी प्रखंड स्तरीय कमल क्लब जिला स्तर पर बैठक कर जिला स्तरीय कमल क्लब का गठन करेंगे। निर्वाचन के द्वारा जिला स्तरीय कमल क्लब के पदाधिकारियों एवं कार्यकारिणी सदस्यों का निर्वाचन करेंगे। इस निर्वाचन पर भी ऊपर की शर्तें लागू होंगी।

झारखंड खेल प्राधिकरण राज्य स्तरीय कमल क्लब की भूमिका निभायेगा।

युवाओं के प्रति ‘कमल क्लब’ की क्या भूमिका होगी?

सभी कमल क्लब सांस्कृतिक, सामाजिक, साहित्यिक, कला, खेलकूद, विकास कार्य, कैशल विकास एवं अन्य लोक कल्याणकारी गतिविधियों में अहम भूमिका निभाएगा। खेलकूद में कमल क्लब फुटबॉल और हॉकी जैसे खेलो को चरणबद्ध तरीके से लोकप्रिय बनाने का काम करेंगे।

ग्राम स्तर कमल क्लब अपने गांव में फुटबॉल, हॉकी या अन्य अभिरूचि के खेलों के पुरुष एवं महिला टीम का गठन करेंगे। इन टीमों के चयन में पंचायत स्तरीय कमल क्लब मार्गदर्शी भूमिका निभाएंगे। पंचायत स्तरीय कमल क्लब अपने पदाधिकारियों और कार्यकारिणी के सदस्यों के मध्य से चयन कर एक पंचायत स्तरीय खेलकूद प्रोत्साहन समिति का गठन करेंगे।

‘कमल क्लब’ को कहां से और कैसे अनुदान मिलेगा?

कमल क्लब सांसद, विधायक मद से अपने गांव/पंचायत/प्रखंड/जिला मुख्यालय में पुस्तकालय एवं जिम्नेजियम के लिए भवन का निर्माण कराएंगे। भवन निर्माण के उपरांत प्रेमचन्द पुस्तकालय एवं स्वामी विवेकानंद जिम्नेजियम का संचालन करेंगे।

कमल क्लब कम से कम एक साल तक सांस्कृतिक, साहित्यिक, सामाजिक, खेलकूद, कौशल विकास, विकास कार्य एवं अन्य लोककल्याणकारी गतिविधियों में निरंतर सक्रियता एवं जिला के अपायुक्त की अनुशंसा के बाद अनुदान प्राप्त करने के योग्य होंगे। राज्य सरकार सांस्कृतिक, साहित्यिक, सामाजिक, खेलकूद समेत अन्य गतिविधियों के लिए सभी 4402 पंचायतों, 264 प्रखंडों और 24 जिलों के कमल क्लब के लिए उपायुक्त के माध्यम से अनुदान प्रदान करेगी।

उपायुक्त की अनुशंसा के बाद हर साल पंचायत स्तर कमल क्लब के लिए अधिकतम अनुदान राशि 1 लाख रुपये, प्रखंड स्तरीय कमल क्लब के लिए अधिकतम अनुदान राशि 2 लाख और जिला स्तरीय कमल क्लब के लिए अधिकतम अनुदान राशि 5 लाख तक होगी।

सांसद, विधायक मद से भवन निर्माण करवाने के पश्चात कमल क्लब  प्रेमचंद पुस्तकालय एवं स्वामी विवेकानंद जिम्नेजियम के लिए हर साल उपायुक्त की अनुशंसा पर अधिकतम पांच लाख रुपये अनुदान पाने के योग्य होंगे।

‘कमल क्लब’ के सदस्यों की सदस्यता इस तरह से समाप्त हो सकती है

40 वर्ष से अधिक उम्र होने पर

मृत्यु, त्यागपत्र, दिवालिया या पागल घोषित होने पर या नैतिक कदाचार के अपराध में दोषी पाये जाने की स्थिति में

सदस्य के द्वारा स्वयं कमल क्लब के लिए कार्य करने से इनकार करने अथवा उनके नियोक्ता द्वारा कमल क्लब में कार्य करने की अनुमति देने से इनकार करने अथवा अनुमति वापस लेने की स्थिति में। जब कोई अध्यक्ष से अनुपस्थिति के संबंध में अनुमति लिये बिना कमल क्लब की लगातार तीन बैठकों में भाग नहीं ले।

कमल क्लब की आम सभा में तीन चौथाई बहुमत से किसी सदस्य की सदस्यता को समाप्त करने अथवा कभी भी हटाने का अधिकार होगा। इस प्रकार के समापन के कारण हुई रिक्ति को नियमावली में निहित प्रावधानों के द्वारा भरा जाएगा।

कमल क्लब के निर्वाचित सदस्य अपने चयन की तिथि से 3 वर्षों या 40 वर्ष पूरी होने तक अपने पद पर बने रहेंगे।

(Visited 102 times, 1 visits today)
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *