गोड्डा: मनमानी शुरु! JBVNL के एमडी के सख्त निर्देशों ने 28 घंटे से पहले ही दम तोड़ दिया?

गोड्डा/झारखंड:  28 घंटे भी असर नहीं रहा झारखंड बिद्युत वितरण निगम के एमडी राहुल पुरवार की हिदायत का। गुरुवार यानि 6 जून 2019 को हुई बैठक में राहुल पुरवार की तरफ से बिजली विभाग को सख्त निर्देश दिये गए थे कि मेंटेनेस का सारा काम सुबह पांच बजे से साढ़े सात बजे के बीच किया जाए। एमडी साहब के बातों का बिजली बाबु ने इतना ही ख्याल रखा कि शटडाउन के नोटिस में शनिवार को सुबह 6 बजे से 10 बजे तक के लिए बिजली कटौती की जानकारी दी गई। लेकिन उसके बाद सारी मनमानी पहले की तरह ही की गई। ना तो एमडी साहब की बातों को विभाग की तरफ से किसी तरह की तवज्जो दी गई और ना ही इस बात का ख्याल ही रखा गया कि उनके निर्देशों को अभी 28 घंटे भी नहीं बीते हैं।

शनिवार को सुबह 8 बजे बिजली काटी गई और दिन भर कटी रही। शाम के तीन बजे बिजली रानी के दर्शन गोड्डा के शहरी क्षेत्र के लोगों को हुए। लेकिन उसके बाद भी बिजली के आने-जाने का सिलसिला जारी रहा। रात के 8 बजे तो हद ही हो गई। जब बिजली दोबारा कट गई। इसके बाद ये जानकारी सामने आई कि 33 हजार केवी में खराबी आ गई है और रात के 11 बजे तक बिजली बहाल हो सकती है। लेकिन ये भरोसा केवल सोशल मीडिया तक ही रहा बाकी बिजली के खंभों पर इसका किसी तरह का असर नहीं दिखा। और रिपोर्ट लिखे जाने तक यानि साढ़े ग्यारह बजे तक बिजली नहीं आई थी।

बिजली विभाग का ये हाल तब है जब आज से तीन दिन बाद यानि 11 जून तक गोड्डा में डबल सर्किट लाइन को चार्ज करना है। गुरुवार यानि 6 जून की बैठक में बिजली विभाग की तरफ से ही एमडी राहुल पुरवार को ये जानकारी दी गई थी। जिसके बाद उन्होंने कहा था कि 11 जून को डबल सर्किट लाइन चालू हो जाने के बाद बिजली की समस्या काफी हद तक दूर हो जाएगी।

लेकिन मौजूदा वक्त में जिस तरह से काम किया जा रहा है उसे ये उम्मीद भी धूमिल होते दिख रहे हैं कि 11 जून के बाद जिले के लोगों को बिजली समस्या से निजात मिल पाएगा। क्योंकि विभाग ने इस बात की कसम खा रखी है कि हम नहीं बदलेंगे। समस्या केवल गोड्डा के बिजली बाबू की तरफ से है ये कहना बर्णवाल साहब के साथ जरा नाइंसाफी होगी।

गुरुवार की बैठक में दुमका एरिया बोर्ड के महाप्रबंधक, देवघर के अधीक्षण अभियंता सहित स्थानीय अभियंता, बिजली के काम में लगी एजेंसी के लोग भी मौजूद थे। सवाल ये भी उठता है कि क्या सभी ने मिलकर JBVNL के एमडी राहुल पुरवार के सामने एक सुर में झूठ बोला था। क्योंकि जिस तरह से एमडी राहुल पुरवार के सख्त निर्देशों ने 28 घंटे से पहले ही दम तोड़ दिया उसके बाद इस तरह के सवाल उठना लाजिमी है।

(Visited 83 times, 1 visits today)
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *