गोड्डा: पानी के लिए किसानों ने त्याग दिया अन्न-जल, Video

गोड्डा/झारखंड:  जब हर दरवाजे से निराशा मिली तो किसानों अब आखिरी हथियार उठाया है। जिसके तहत किसानों ने क्रमिक भूख हड़ताल शुरु किया है। किसानों का ये अनशन कझिया नदी से अवैध बालू उठाव को बंद करने और उनके खेतों तक खेती के लिए पानी पहुंचाने के लिए है। अपनी इस मांग को लेकर किसान सिंहवाहिनी मंदिर में अनशन पर बैठे हैं।

किसान संघर्ष मोर्च के बैनर के तहत किसान अनिश्चितकालीन क्रमिक भूख हड़ताल पर बैठे हैं। पहले दिन 10 किसानों ने भूख हड़ताल किया। मांगों में कझिया नदी से बालु के अवैध खनन पर रोक, सिंचाई को लेकर जमनी पहाडपुर मे कझिया नदी पर चैक डैम का निर्माण शामिल है। वही क्षेत्र के किसान ने कहा कि जमनी पहाडपुर बालु घाट में लीज से अधिक क्षेत्र में बालू खनन किया गया। बालु खनन में नियम का अनुपालन नही हुआ। अवैध खनन भी किया गया जिसके कारण सिंचाई व्यवस्था ध्वस्त हो गयी।

किसानों का कहना है कि कझिया के बालू उठाने की वजह से नदी का स्तर नीचे हो गया है। जबकि उनके खेत तक पानी पहुंचाने के लिए जो डांड बने थे वो ऊंचाई पर है। जिसकी वजह से पानी उनके खेतों तक नहीं पहुंच पाता है। और उनके पास सिंचाई का कोई दूसरा साधन नहीं है। बालू माफियाओं की इस मनमानी की वजह से पांच हजार एकड़ में सिंचाई बुरी तरह से प्रभावित हुई है।

Loading...