गोड्डा: सिंहवाहिनी मंदिर में किसानों का आमरण अनशन खत्म, जानिये क्या समझौता हुआ

गोड्डा/झारखंड:  जमनी के सिंहवाहिनी मंदिर में मंगलवार से जारी किसानों का अनशन खत्म हो गया है। आज तीसरे दिन किसानों ने अपना अनशन खत्म किया। गोड्डा सिविल एसडीओ नमन प्रियेश लकड़ा ने जूस पिलाकर किसानों का अनशन खत्म करवाया। अनशन खत्म करने से पहले किसानों और प्रशासन के बीच एक सहमति पत्र पर हस्ताक्षर भी किया गया। जिसमें किसानों की मांगों पर प्रशासन की तरफ से सहमति जताई गई।

इससे पहले बुधवार को शाम के वक्त विधायक अमित मंडल ने किसानों से मुलाकात की थी। जिसके बाद उन्होंने किसानों को ये भरोसा दिया था कि उनकी मांग ऊपर तक पहुंचाई जाएगी। साथ ही उन्होंने किसानों से अनशन खत्म करने की अपील भी की थी।

गुरुवार को भी सिंहवाहिनी मंदिर में नेताओं का आना जारी रही। जिला कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष दीपिका पांडे सिंह ने भी किसानों से मुलाकात कर उनकी मांग को जायज ठहराया था। पोड़ैयाहाट के विधायक प्रदीप यादव भी किसानों से मिलने सिंहवाहिनी मंदिर पहुंचे थे। दरअसल बुधवार शाम के 6 बजकर 30 मिनट तक किसी भी नेता ने किसानों की सुध नहीं ली थी। जब newstrendindia ने किसानों की उपेक्षा पर खबर दिखाई तो नेताओं और प्रशासनिक पदाधिकारियों की नींद भी टूटी और गुरुवार को एक एक कर सभी किसानों की सुध लेने पहुंचने लगे।

एसडीओ नमन प्रियेश लकड़ा ने जूस पिलाकर अनशन तुड़वाया

समझौत के तहत तीन बातों को शामिल किया गया है समझौता पत्र पर लिखा गया है कि

अंचलाधिकारी की तरफ से सभी के बीच ये घोषणा की गई कि कल से जमनी पहाड़पुर सिंहवाहिनी स्थान गोड्डा के पास सकारात्मक दिशा में चैक डैम निर्माण की प्रक्रिया शुरु कर दी जाएगी। एवं अपेक्षित समय सीमा के अंदर हर परिस्थिति में स्थायी रुप से कर दिया जाएगा।

कत्काल सिंचाई व्यवस्था पर कार्य 31 अगस्त 2018 से शुरु कर दिया जाएगा। जो स्थानीय किसानों के अनुसार होगा। जिसकी सारी व्यवस्था जिला प्रशासन गोड्डा करेगा।

जमनी पहाड़पुर कझिया नदी घाट का पुनर्समीक्षा प्रशासनिक टीम गोड्डा के द्वारा किया जाये कि इस घाट से बालू उठाव किसान और पर्यावरण के हित में कितना उचित है।

Loading...