गोड्डा में बनेगा फूड पार्क, शिखर सम्मेलन से दोगुनी होगी किसानों की आय?

गोड्डा/झारखंड:  जिले के किसानों की आर्थिक हालत में सुधार और उनकी आय दोगुनी करने के लिए ग्लोबल एग्रीकल्चर एवं खाद्य शिखर सम्मेलन 2018 आयोजित की गई। जिसमें जिले के किसानों से जुड़ी सरकार की योजनाओं पर चर्चा की गई।

इस शिखर सम्मेलन में उपायुक्त किरण कुमारी पासी ने कहा जिले में खेती के क्षेत्र में असीम संभावनाएं हैं। कृषक यदि चाहे तो ट्रेडिशनल खेती उत्पादन में बढ़ोतरी कर सकते हैं। इसमें प्रशासन की तरफ से भी उन्हें हर संभव मदद की जाएगी। उन्होंने कहा लेमनग्रास की खेती कर किसान अपनी पैदावार में वृद्धि कर सकते हैं। इसी तरह से दूसरी फसलों जैसे आलू, बैंगन, टमाटर, मशरूम का उत्पादन कर किसान अपनी आय दोगुनी कर सकते हैं।

उपायुक्त किरण कुमारी पासी ने कहा जिले में फूड प्रोसेसिंग यूनिट के लिए फूड पार्क की स्थापना की जाएगी। जिसमें सब्जियों और फल का भंडारण किया जाएगा और सही जगह और कीमत पर उनकी बिक्री की जाएगी। जिससे किसानों के लिए अपने फसल की बिक्री में आने वाली दिक्कत दूर होगी।

उन्होंने कहा ग्लोबल एग्रीकल्चर एवं खाद्य शिखर सम्मेलन 29-30 नवंबर को रांची में आयोजित हो रहा है। जिसके लिए जिले में 30 अक्टूबर को रोड शो का आयोजन किया जा रहा है। जिसमें 150 किसान और उद्यमी भाग लेंगे। इस शिखर सम्मेलन का मकसद कृषि एवं खाद्यान्न के क्षेत्र में क्षमता को विकसित करना था। 2020 तक किसानों की आय दोगुनी करने के लिए जिले के साथ साथ पूरे झारखंड को खाद्य प्रसंस्करण हब के तौर पर विकसित करना है। किसानों को अपने उत्पाद को बेचने के लिए एक निश्चित बाजार मिले।

यहां बड़ा सवाल ये है कि जिले के ज्यादातर किसान ऐसे हैं जिनके खेतों में सिंचाई की सुविधा तक नहीं है। ये किसान मानसून के भरोसे अपनी खेती करते हैं। तितली चक्रवात से पहले की ही बात है जब किसानों को अपनी धान की फसल सूखती हुई दिख रही थी। जिसके बाद विधायक अमित मंडल की तरफ से जिले को सूखाग्रस्त करने के लिए सीएम को चिट्ठी भी लिखी गई थी। लेकिन ‘तितली’ मायूसी थोड़ी कम कर दी। सिंचाई जैसी बुनियादी सुविधा के अभाव में क्या किसान अपनी आय दोगुनी करने के बारे में सोच सकते हैं?

(Visited 22 times, 1 visits today)
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *