गोड्डा: महागामा में AGM सोमनाथ पर हमले की साजिश की पूरी कहानी, दोबारा हमला की थी तैयारी

गोड्डा/झारखंड: इसी साल जनवरी महीने की 23 तारीख को महागामा में मां अम्बे ग्रुप के AGM सोमनाथ चक्रवर्ती पर उनके घर में घुसकर जानलेवा हमला किया गया था। जिसके बाद गंभीर हालत में उन्हें भागलपुर रेफर किया गया जहां से उन्हें दुर्गापुर के अस्पताल में ले जाया गया। जहां उनका इलाज चल रहा है। सोमनाथ चक्रवर्ती पर हमले की ये साजिश बद्री भगत ने रची थी। इस हमले में शामिल अपराधियों की गिरफ्तारी और उनसे पूछताछ के बाद पुलिस ने ये जानकारी दी है।

पुलिस ने इस मामले में तीन और आरोपियों को गिरफ्तार किया है। जिनके नाम नटवर सिंह उर्फ नितेश (बांका), बुलटुल सिंह उर्फ राजीव सिंह (मुंगेर) और उदय सिंह (जमुई) हैं। इन तीनों अपराधियों ने अपना गुनाह कबूल करते हुए पुलिस को इस साजिश के सूत्रधार और किस तरीके से इसे अंजाम दिया गया इसकी जानकारी दी।

पुलिस के मुताबिक गिरफ्तार अपराधियों ने अपने-अपने स्वीकारोक्ति बयान में बताया कि इस काण्ड में बद्री भगत, पिता-स्व. भागवत भगत, महागामा, गोड्डा के कहने पर आउटसोरर्सिंग कम्पनी मां अम्बे ग्रुप के AGM सोमनाथ चक्रवर्ती को मारने की सुपारी ली गई थी। इन आरोपियों ने बताया कि बद्री भगत ने ही घटना से पहले इनके ठहरने का इंतजाम किया था।

बद्री भगत ने सोमनाथ चक्रवर्ती के घर और उसकी रेकी के लिए स्थानीय व्यक्ति शहबाज अंसारी जो अभी रिमाण्ड होम, दुमका में है, अबुल और शकिल जिन्हें पहले ही हथियार के साथ गिरफ्तार किया जा चुका है और न्यायिक हिरासत में है, के माध्यम से पहचान कराया।

गिरफ्तार अभियुक्तों ने बताया कि ब्रदी भगत से एडवांस के तौर पर कुछ रकम लेने के बाद घटना के दो दिन पहले से ही महागामा आ कर बद्री भगत के ट्रैक्टर सर्विसिंग सेन्टर बजरंग इन्फ्रास्ट्रक्चर में ठहर कर आउट सोरर्सिंग कम्पनी मां अम्बे ग्रुप के AGM सोमनाथ चक्रवर्ती का स्थानीय व्यक्तियों के सहयोग से रेकी कर घटना को अंजाम दिया।

अभियुक्त उदय सिंह ने अपने स्वीकारोक्ति बयान में अपने आप को सूटर होने की बात कबूल की है। वारदात में इस्तेमाल हथियार को इन्होंने उसी घर में छिपा दिया जहां ये ठहरे हुये थे और वहां से स्कोर्पियों से सभी अभियुक्त फरार हो गये।

गिरफ्तार अभियुक्तों की निशानदेही पर वारदात में इस्तेमाल चोरी का स्कोर्पियों गाड़ी एवं बद्री भगत के ट्रैक्टर सर्विसिंग सेन्टर से 9mm पिस्टल गोली तथा देशी कट्टा, जिसके चेम्बर में फायर किया हुआ .315 को खोखा बरामद किया गया। बद्री भगत द्वारा साक्ष्य मिटाने के मकसद से अपने ट्रैक्टर सर्विसिंग सेन्टर में पूर्व से रखे गार्ड को घटना के बाद हटाया दिया गया,  और 6 फरवरी से नये गार्ड को सर्विसिंग सेन्टर की देख-रेख के लिए रखा गया।

महागामा में अपने मकसद में नाकाम रहने के बाद अब इनकी साजिश AGM सोमनाथ चक्रवर्ती पर मिशन हॉस्पिटल, दुर्गापुर (पश्चिम बंगाल) में हमला कर उनकी हत्या करने की थी। दोबारा गोली मारने के एवज में 15 लाख रुपये देने की बात कही गई थी।

(Visited 94 times, 1 visits today)
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *