गोड्डा: माली मौजा पर न हो सियासत, अडाणी को अपनी मर्जी से दी है जमीन- रैयत

गोड्डा/झारखंड:  अडाणी कंपनी को लेकर चल रहे ताजा विवाद पर सोमवार को माली मौजा के रैयतों ने माली में ही एक बैठक की। बैठक में लगभग सभी रैयत व उनके परिवार के लोग शामिल हुए। रैयतों ने कहा कि उन्होंने पावर प्लांट के लिए अपनी सहमति से जमीन प्रशासन को दी है। उन्होंने कहा कि सिर्फ दो लोग हैं जो खिलाफ हैं, बाकी लगभग सारे लोग मुआवजा तक ले चुके हैं। ऐसे में यह भ्रम फैलाना बिल्कुल गलत है कि माली मौजा के रैयत प्लांट के खिलाफ हैं।

रैयतों ने बैठक में कहा कि हमारे मामले में कोई राजनीति नहीं होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि जो भी मामला है उसे हम रैयत आपस में बैठकर सुलझाने में सक्षम हैं। इसमें कोई स्वार्थ पूर्ति के लिए राजनीति न करे। उन्होंने सभी राजनीतिक दलों से अपील की है कि उनकी जो भी समस्याएं हैं उन्हें वे मिल बैठकर सुलझाने में सक्षम हैं।

उन्होंने कहा कि आज हमारे विकास की बारी आई है तो राजनीति क्यों? अब तक क्या कोई हमारा हाल पूछने आया था? क्या किसी ने अब तक हमारे आंसू पोछे थे? तो अब ये राजनीति क्यों? जब हम मिल बैठकर सभी मुद्दों को सुलझाने को तैयार हैं तो फिर विरोध किस बात का किया जा रहा है। रैयतों ने कहा कि इस इलाके में हमें प्रति एकड़ 49 लाख 10 हजार 4 सौ रुपए प्रति एकड़ की दर से मुआवजा मिल रहा है। इससे हमारा जीवन स्तर सुधरेगा तो इससे किसी को कोई परेशानी क्यों हो रही है? क्या हमें बढ़िया जिंदगी जीने का अधिकार नहीं है?

रैयतों से बात करने पर उन्होंने बताया भूमि अधिग्रहण कानून के तहत पूरे पारदर्शी तरीके से सारा काम हुआ है। सभी रैयतों को बकायदा नोटिस दिया गया है। कुछ लोग नहीं चाहते कि आदिवासियों का विकास हो। उन्होंने कहा कि सीएसआर के तहत हमारे इलाके में काफी बढ़िया कार्य हो रहा है। हम भी मुख्यधारा में शामिल होना चाहते हैं। हमें भी आगे बढ़ने का हक है।

रैयतों ने कहा कि हमारी एक बार फिर से सभी राजनीतिक दलों से अपील है कि वे बहुमत को देखें। जब सारे रैयत तैयार हैं तो फिर वे किस आधार पर हमारा विरोध कर रहे हैं? क्या राजनीतिक दल नहीं चाहते कि हमारा विकास हो क्या राजनीतिक दल ये नहीं चाहते कि हम मुख्य धारा में आएं?

बैठक में रंजन मंडल, विभूति मंडल, सत्यभामा देवी, मो. गुजरी देवी, गणश मांझी, महेंद्र महतो, पवन कुमार, आशा देवी, डेजी देवी, मो. प्रमीला, अन्नपूर्ण देवी, पिंकी देवी, जमुनिया देवी, कुंदन कुमार, महेश ठाकुर, संतोष कुमार ठाकुर, डॉली कुमारी, त्रिभुवन मंडल, जयराम मिस्त्री, हीरा मंडल आदि रैयत व उनके परिवार के लोग शामिल हुए।

(Visited 27 times, 1 visits today)
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *