जिला प्रशासन और अदाणी फाउंडेशन की पहल, ज्ञानोदय रथ से होगी पढ़ाई

गोड्डा/झारखंड:  उपायुक्त भोर सिंह यादव की एक शानदार पहल से लॉक़ाउन की इस विषम परिस्थिति में भी बच्चों तक शिक्षा की अलख जगाने एवं बच्चों तक शिक्षा पहुंचाने का एक सराहनीय प्रयास किया जा रहा है। उपायुक्त ने ज्ञानोदय रथ के जरिए जिले के सरकारी स्कूलों के बच्चों तक बेहतर शिक्षा पहुंचाने के लिए एक अनूठा प्रयोग किया है। जिला प्रशासन के दिशा-निर्देश पर अदाणी फाउंडेशन की ओर से चलाए जा रहे स्मार्ट क्लास कार्यक्रम ज्ञानोदय को एक कदम और बढ़ाते हुए ज्यादा से ज्यादा बच्चों तक पहुंचाने का प्रयास किया जा रहा है।
इस कार्यक्रम के तहत जिले के 10 पंचायतों का चयन किया गया है। पहले चरण में 2 से 8 अक्टूबर तक गोड्डा पोड़ैयाहाट और सुंदरपहाड़ी के 6 सरकारी स्कूलों में ज्ञानोदय रथ के जरिए स्मार्ट क्लास के माध्यम से पढ़ाने की व्यवस्था की गई है। फिलहाल ज्ञानोदय रथ के माध्यम से नौंवी एवं दसवीं के बच्चों को पढ़ाने की व्यवस्था की गई है ताकि माध्यमिक परीक्षा की तैयारी बच्चे बेहतर तरीके से कर सकें।  सरकारी स्कूलों में पदस्थ शिक्षक भी इसमे बढ़-चढ़ कर हिस्सा ले रहे हैं। ज्ञानोदय रथ के जरिए पढ़ाई के दौरान बच्चों को मास्क लगाने और सामाजिक दूरी के नियम का पालन करने का निर्देश भी दिया गया है।
कार्यक्रम की शुरूआत करते हुए उपायुक्त भोर सिंह यादव, उप विकास आयुक्त अंजली यादव और जिला शिक्षा अधीक्षक फुलमनी खलको ने ज्ञानोरथ रथ को हरी झंडी दिखा कर रवाना किया। मौके पर प्लस टू हाई स्कूल के प्रधानाध्यापक परितोष पाठक, नीति आयोग के जिला कोषांग पदाधिकारी संतोष कुमार, अदाणी फाउंडेशन के पदाधिकारी व इकोवेशन से जुड़े कर्मचारी भी मौजूद थे।
जिला प्रशासन के निर्देश पर अदाणी फाउंडेशन के सहयोग से चलाए जा रहे ज्ञानोदय कार्यक्रम के जरिए लॉकडाउन के दौरान भी ज्ञानोदय गोड्डा एप और सोशल मीडिया चैनल के जरिए बच्चों को ऑनलाइन पढ़ाई की व्यवस्था की गई थी। लेकिन विषम भौगोलिक परिस्थितियों के कारण जंहा मोबाइल नेटवर्क काम नहीं कर रहा, उन जगहों पर ऑफ लाईन क्लास के माध्यम से बच्चों को पढ़ाने की व्यवस्था की जा रही है।
जाहिर है जिला प्रशासन सुदूर इलाकों में भी बच्चों तक शिक्षा पहुंचाने को लेकर काफी गंभीर है। और संसाधन की अनुपलब्धता का असर बच्चों की शिक्षा पर ना पड़े इसके लिये जिला प्रशासन की यह पहल सराहनीय है।
भोर सिंह यादव, उपायुक्त गोड्डा
“लॉकडाउन की अवधि में स्कूल नहीं खुल पा रहे हैं। ऐसे में उद्देश्य यह है कि अधिक से अधिक बच्चों तक शिक्षा पहुंच सके. ज्ञानोदय रथ के द्वारा बच्चों को स्कूल ना जा पाने की स्थिति में उनके गांव तक जाकर शिक्षा देने की एक पहल है। आशा है कि इससे अधिक से अधिक बच्चे लाभ उठा पायेंगे”
फुलमनी खलको, जिला शिक्षा अधीक्षक, गोड्डा
“माध्यमिक परीक्षा निकट आ रहा है, ऐसे में पढ़ाई के प्रति बच्चों की रुचि जगाने और आगामी परीक्षा पर परिणाम बेहतर हो इसलिए सुदूर इलाकों के छात्रों के लिए ज्ञानोदय रथ हाई स्कूल के बच्चों के लिए एक बेहतर पहल है”
(Visited 23 times, 1 visits today)
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *