jaya lalitha

जयललिता को दिया गया था धक्का, फिर अस्पताल में भर्ती कराई गई, AIADMK नेता का दावा

जयललिता को दिया गया था धक्का, फिर अस्पताल में भर्ती कराई गई, AIADMK नेता का दावा




नई दिल्ली:  जयललिता को लेकर AIADMK नेता और तमिलनाडु विधानसभा के पूर्व स्पीकर पी. एच. पंडियन ने सनसनीखेज दावा किया है। पंडियन के मुताबिक जिस रात जयललिता को अपोलो अस्पताल में भर्ती कराया गया उससे पहले उन्हें किसी ने धक्का दिया था। पंडियन के मुताबिक उनके पोएश गार्डन आवास में ही किसी ने उन्हें धक्का दिया था। लेकिन उसके बाद क्या हुआ इसके बारे में किसी को कोई जानकारी नहीं है। जयललिता को 22 सितंबर 2016 को अपोलो अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां लंबे इलाज के बाद उनकी मौत हो गई थी।

पंडियन ने कहा धक्का लगने के बाद जयललिता गिर गई थीं। जिसके बाद पुलिसवाले ने एंबुलेंस बुलाकर उन्हें अपोलो अस्पताल में भर्ती कराया। यही नहीं पंडियन ने बताया का जब जयललिता को अपोलो अस्पताल में भर्ती कराया गया उसके बाद अस्पात के 27 से ज्यादा सीसीटीवी कैमरे हटा दिये गए थे। इसपर पंडियन ने कहा कि अस्पताल को यह स्पष्ट करना चाहिए कि अस्पताल के सीसीटीवी कैमरे क्यों हटाए गए?

जयललिता की मौत के बारे में भी पंडियन ने खुलासा किया। पंडियन ने कहा कि उनका निधन 4 दिसंबर को शाम के साढ़े चार बजे ही हो गया था। लेकिन अस्पताल की तरफ से इसका एलान अगले दिन 5 दिसंबर को किया गया। उन्होंने सवाल किया कि यह भी बताया जाना चाहिए कि किस फैमिली मेंबर ने जयललिता का इलाज बंद करने के लिए कहा था?

पंडियन से जब इन जानकारियों के बारे में पूछा गया कि उन्हें कैसे इसकी जानकारी मिली को उन्होंने कहा मेरे अपने स्त्रोत है। मैं खुद ही जांच कर रहा हूं। पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कहा कि अम्मा के इलाज में कई ऐसी बात हैं जिनपर शक होता है। सीएम होने के नाते उन्हें एसपीजी सुरक्षा मिली हुई थी। क्या एसपीजी एक्ट के मुताबिक उनके खाने की जांच की गई ? और उन्हें अस्पताल में जाने की इजाजत क्यों नहीं थी?

उन्होंने कहा कि 3 सीटों पर उपचुनाव के दौरान AIADMK उम्मीदवारों के नामांकन के वक्त फॉर्म ए और बी पर जयललिता के अंगूठे के निशान लिए गए थे। पंडियन ने सवाल किया कि क्या किसी दूसरे दस्तावेज पर भी जयललिता के अंगूठे के निशान लिए गए थे? डॉक्टर और वे लोग जो उस समय अम्मा के पास थे उन्हें इसका जवाब देना चाहिए।

Loading...

Leave a Reply