श्रीनगर में 32 घंटे के ऑपरेशन के बाद दो आतंकी मारे गए

नई दिल्ली:  जम्मू कश्मीर के श्रीनगर में पिछले 32 घंटे से ऑपरेशन चल रहा है। खबर लिखे जाने तक ऑपरेशन अपने अंतिम चरण में है। सेना ने एनकाउंटर में अबतक दो आतंकी मार गिराए हैं। ये आतंकी श्रीनगर के सीआरपीएफ कैंप पर हमला करने आए थे। लेकिन जब संतरी ने इन्हें चुनौती दी तो ये आतंकी पास के निर्माणाधीन इमारत में छिप गए थे। जहां से ये लगातार सुरक्षाबलों पर गोलियां बरसा रहे थे।

आतंकी सीआरपीएफ की श्रीनगर के करन नगर में 23वीं बटालियन के हेडक्वार्टर पर हमला करने की तैयारी में थे। इन आतंकियों ने सोमवार सुबह 4.30 बजे कैंप के भीतर घुसने की कोशिश की थी। लेकिन संतरी की नजर इन आतंकियों पर पड़ गई। जिसके बाद आतंकी निर्माणाधीन इमारत में छिप गए। जिस इमारत में आतंकी छिपे थे वो एसएमएचएस अस्पताल के पास है।

जिसके बाद सुरक्षाबलों ने इमारत के आसपास रह रहे लोगों को पहले वहां से बाहर निकाला। जब सुरक्षाबल इलाके की तलाशी ले रहे थे तभी आतंकियों ने उनपर फायरिंग शुरु कर दी। आतंकियों के साथ मुठभेड़ में सीआरपीएफ का जवान मोजाहिद खान शहीद हो गए।

हाल के दिनोँ में पिछले चार दिनों में सेना पर ये तीसरा बड़ा हमला है। इससे पहले सुंजवां में सेना के कैंप पर आतंकियों ने हमला किया था। जिसमें 6 जवान शहीद हो गए थे। 2018 में अबतक 26 जवान शहीद हो चुके हैं। यानि 44 दिनों में 26 जवान शहीद हुए हैं।

इस तरह के आतंकी हमलों के बाद केंद्र सरकार पर भी सवाल उठ रहे हैं। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि पाकिस्तान को इसकी कीमत चुकानी होगी। गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा हमारी सेना पूरी तरह से सक्षम है और सही तरीके से जवाब दे रही है। सरकार से सवाल ये किये जा रहे हैं कि आखिर पाकिस्तान के खिलाफ सीधी कार्रवाई के लिए और कितने जवानों को शहीद होना पड़ेगा?

Loading...