दिल्ली में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी पकड़े गए

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। स्पेशल सेल ने एक के बाद एक की गई छापेमारी में दिल्ली से जैश ए मोहम्मद के 9 संदिग्धों को गिरफ्तार किया है। जबकी तीन संदिग्धों को गाजियाबाद के लोनी से और एक को देवबंद से गिरफ्तार किया गया है। गिरफ्तारी की शुरुआत दिल्ली के भजनपुरा से हुई। जहां IED बनाते हुए धमाका हो गया जिसमें एक संदिग्ध बुरी तरह से घायल हो गया। घायल आतंकी का नाम साजिद बताया जा रहा है। जो जैश के इस नेटवर्क का सरगना था। इसके बाद स्पेशल सेल ने दिल्ली और उसके आसपास के जिलों में की गई छापेमारी में 13 आतंकियों को गिरफ्तार किया। इनपर जैश –ए-मोहम्मद के लिए काम करने का आरोप है। ये आतंकी दिल्ली में किसी बड़ी आतंकी वारदात को अंजाम देने के फिराक में थे। गिरफ्तार आतंकियों के पास से IED भी बरामद किया गया है।

इन आतंकियों ने अपने नाम से भारतीय पहचान पत्र भी बनवा रखे थे। ये सभी आतंकी जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर से प्रभावित बताए जा रहे हैं। इन्होंने अपना वाहट्सऐप ग्रुप भी बना रखा था। जिसके जरिये ये एक दूसरे से संपर्क में रहते थे। अपने ग्रुप में इन्होंने कई वीडियो भी अपलोड किया था। स्पेशल सेल को इनकी काफी दिनों से तलाश थी। तकरीबन महीने भर से स्पेशल सेल इनकी गतिविधियों पर नजर रख रहा था। जिसका नतीजा ये हुआ की इससे पहले की ये किसी आतंकी वारदात को अंजाम दे पाते इन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।

वहीं सरकार का कहना है कि देश को आईएसआई से खतरा नहीं है। गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि देश के मुसलमान भारतीय संस्कृति को तरजीह देते हैं ना की आईएसआई को। वहीं केंद्रीय गृह राज्य मंत्री किरन रिजीजू ने कहा की राजस्थान के बॉर्डर वाले इलाकों में आईएसआई की सक्रियता हो सकती है। साथ ही उन्होंने कहा की ऐसे 286 लोगों को सुरक्षा दी गई है जिन्हें आईएसआई से खतरा है। साथ ही दिल्ली में हुई जैश के आतंकियों की गिरफ्तारी पर उन्होंने कहा की ये खुफिया विभाग और स्पेशल सेल के बीच बेहतर तालमेल का नतिजा है।

Loading...