ISRO का कमाल आसमान से पाकिस्तान और चीन की निगरानी होगी

ISRO का कमाल आसमान से पाकिस्तान और चीन की निगरानी होगी

नई दिल्ली:  नए साल की शुरुआत के दूसरे हफ्ते में ISRO ने एक बार फिर से अंतरिक्ष में इतिहास रचा है। शक्रवार को सुबह 9 बजकर 28 मिनट पर ISRO ने श्रीहरिकोटा से 31 उपग्रहों को लॉन्च किया। इस कामयाब लॉन्चिंग के बाद  अंतरिक्ष में इसरो का शतक भी पूरा हो गया है। शुक्रवार को लॉन्च किये गए उपग्रह इसलिए भी खास हैं क्योंकि इससे देश के सेना की भी ताकत बढ़ेगी।

कार्टोसैट-2 को आई इन द स्काई भी कहा जा है। इसकी मदद से पड़ोसी  देश पाकिस्तान और चीन की गतिविधियों पर भी नजर रखी जा सकेगी। इस उपग्रह की मदद से अंतरिक्ष से धरती की तस्वीर ली जा सकेगी। सीमा पर आतंकी गतिविधियों पर नजर रखने में भी इस उपग्रह से काफी मदद मिलेगी। यही वजह है कि पाकिस्तान ISRO की इस कामयाबी से घबराया हुआ है। चीन की तरफ से सरहद पर की जानेवाली मनमानी पर भी नजर रखने में आसानी होगी।

ISRO ने शुक्रवार को सुबह 9 बजकर 28 मिनट पर एकसाथ 31 उपग्रह को लॉन्च किया। इनमें तीन भारतीय उपग्रह शामिल हैं। बाकी के 28 उपग्रहों में 6 देशों के उपग्रह शामिल हैं। इनमें कनाडा-1, फिनलैंड-1, फ्रांस-1, दक्षिण कोरिया-5, ब्रिटेन-1 और अमेरिका के19 उपग्रह भी शामिल है।

आसमन से धरती पर नजर रखने के लिए 710 किलोग्राम का कार्टोसेट-2 सीरीज मिशन का प्राथमिक उपग्रह है। इसके साथ सहयात्री उपग्रह हैं जिनमें 100 किलोग्राम का माइक्रो और 10 किलोग्राम का नैनो उपग्रह शामिल है।

Loading...