ISI ने आतंकी मुश्ताक जरगर को कश्मीर में हमले की जिम्मेदारी सौंपी

दिल्ली: पाकिस्तान एक बार फिर बेनकाब हुआ है। पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI ने कश्मीर में हिंसा फैलाने और हमला करने के लिए एक नया प्लान बनाया है। ISI ने इसका जिम्मा POK के मुजफ्फराबाद में बैठे अल-उमर मुजाहिद्दीन के सरगना मुश्ताक जरगर को सौंपा है। जरगर को कंधार विमान अपहरण कांड के बाद आतंकी मसूद अजहर के साथ रिहा किया गया था।

पाकिस्तान में बैठे आतंकी आका Surgical Strike का बदला लेने की धमकी कई बार दे चुके हैं। उन्हीं आतंकी आकाओं की सलाह पर ISI ने कश्मीर घाटी में आतंकी हमले की जिम्मेदारी पुराने कश्मीरी आतंकी सरगनाओं को देने का फैसला किया है। खुफिया जानकारी के मुताबिक अब तक निष्क्रिय आतंकी संगठनों जैसे अल-उमर-मुजाहिद्दीन, हरकत उल अंसार, अल बदर, इख्वान-उल-मुजाहिद्दीन को दोबारा से सक्रिय करने की योजना बनाई है।

जबकि ISI ने जैश-ए-मोहम्मद, लश्कर-ए-तैयबा और हिज्बुल मुजाहिदीन जैसे बड़े आतंकी संगठनों को कश्मीर के बाहर बड़े हमले करने की जिम्मेदारी सौंपी है। खुफिया रिपोर्ट में कहा गया है कि घाटी में मौजूद 250 आतंकियों में 107 स्थानीय लोग शामिल हैं। ISI ने जो नया प्लान बनाया है उसके तहत उन्हें चुपचाप सुरक्षाबलों पर हमला करने और हमला कर छिप जाने को कहा गया है। कश्मीर में मौजूद आतंकी पुलिस के जवानों से हथियार छीनकर सुरक्षाबलों पर हमला कर रहे हैं। हथियार छीनने के लिए आतंकी पुलिस बलों को ज्यादा निशाना बना रहे हैं।

खुफिया रिपोर्ट के मुताबिक अल उमर मुजाहिद्दीन घाटी में तैनात सुरक्षाबलों पर हमले और तेज करेगा। इस आतंकी संगठन की कोशिश ये है कि हमले आबादी वाले इलाके में किये जाएं। जहां हमला करने के बाद आसानी से छिपा जा सके। इसलिए खासतौर से मुश्ताक जरगर को चुना गया है। जो मूलरुप से श्रीनगर का रहनेवाला है और कश्मीरियों में मुश्ताक की पकड़ के बारे में ISI को भी जानकारी है।

Loading...