चीन में भारतीय नोट छपने की खबर के बाद कटघरे में मोदी सरकार

नई दिल्ली:  एक चीनी अखबार के दावे के बाद मोदी सरकार पर बड़े सवाल खड़े हो गए हैं। चीनी अखबार साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट ने दावा किया है कि भारतीय नोट चीन में छापे जाते हैं। अखबार ने ये भी दावा किया है कि केवल भारत ही नहीं बल्कि नेपाल, बांग्लादेश, थाइलैंड, श्रीलंका, ब्राजील के नोट भी छापे जाते हैं।

साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट की खबर के सामने आने के बाद राजनीतिक गलियारे में भी हड़कंप मच गया है। इसपर कांग्रेस नेता शशि थरूर ने मोदी सरकार पर सवाल उठाते हुए सरकार से स्पष्टीकरण मांगा है। शशि थरूर ने इसे भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा बताते हुए स्पष्टीकरण मांगा है। थरुर ने अपने ट्वीट में वित्त मंत्री अरुण जेटली और पीयूष गोयल को टैग किया है। हलांकि चीनी मीडिया की इस खबर की पुष्टि चीनी सरकार या भारत सरकार की तरफ से नहीं की गई है।


चीनी मीडिया के दावे पर आरबीआई का बयान सामने आया है। जिसमें चीनी मीडिया की रिपोर्ट को गलत बताया गया है। आरबीआई की तरफ से कहा गया है कि चीनी मीडिया में छपी खबर गलत है भारतीय करेंसी केवल भारत में ही छापी जाती है।

साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट ने अपनी खबर को सही ठहराने के लिए बैंक नोट प्रिंटिंग एंड मिंटिंग कॉर्पोरेशन के अध्यक्ष लियू गुशेंग के एक मई को दिए इंटर्व्यू का हवाला दिया है। अपने इंटर्व्यू में गुशेंग ने बताया था कि 2013 में चीन में विदेशी नोटों की छपाई का काम शुरु हुआ। जिसके बाद सबसे पहले नेपाल के नोट छापे गए। जिसके बाद अब नेपाल के साथ साथ भारत, श्रीलंका, मलेशिया, ब्राजील समेत कई देशों के नोट छापे जाते हैं।

Loading...