ICJ में भारत की बड़ी जीत, अभी कुलभूषण को फांसी नहीं दे सकता पाकिस्तान

हेग स्थित इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस के इस फैसले के बाद पाकिस्तान के वो सारे दावे गलत साबित हुए हैं जो उसने जाधव के मामले में किये थे। पाकिस्तान ने कहा था कि उसने जाधव को बलूचिस्तान में जासूसी करते हुए पकड़ा था। पाकिस्तान जाधव को रॉ का एजेंट बता रहा था। पाकिस्तान ने कहा था जाधव आतंकी घटनाओं में भी शामिल रहा है। जबकि सच्चाई ये है कि पाकिस्तान ने जाधव को ईरान से मार्च 2016 में अगवा किया था।

जाधव के मामले पर भारत की तरफ से कई बार कॉन्सुलेट एक्सेस की मांग की गई थी लेकिन पाकिस्तान ने इसकी इजाजत नहीं दी। पाकिस्तान की जिस आर्मी कोर्ट ने जाधव को फांसी की सजा सुनाई है वहां जाधव को अपना पक्ष रखने तक का मौका नहीं दिया गया था। उसे वकील रखने की भी इजाजत नहीं थी।

जाधव के परिजनों ने भी पाकिस्तान जाकर उससे मिलने की याचिका पाकिस्तानी अधिकारियों सामने दी थी। लेकिन पाकिस्तान ने इसकी भी इजाजत नहीं दी थी। पाकिस्तान ने जिस तरह का रुख जाधव के मामले पर दिखाया है उससे शुरु से ही ये साफ हो चुका था कि जाधव के मामले में पाकिस्तान सफेद झूट बोल रहा है। और आज इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस में भी पाकिस्तान बेनकाब हो गया।

Loading...