सुनो बासित! उरी हमले के ये सबूत अपने हुक्मरानों तक पहुंचा दो

दिल्ली: भारत में पाकिस्तानी उच्चायोग अब्दुल बासित को विदेश मंत्रालय में तलब किया गया। विदेश मंत्रालय ने बासित को उरी हमले से जुड़े सबूत भी सौंपे हैं। उरी हमले में मारे गए एक आतंकी की पहचान हुई है। उसका नाम हाफिज था और वो पाक अधिकृत कश्मीर के मुजफ्फराबाद का रहनेवाला था।

विदेश मंत्रालय ने पाकिस्तानी उच्चायोग को उन दो गाइड के बारे में भी सबूत सौंपे हैं जो पाकिस्तानी आतंकियों के मददगार थे। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरुप ने ट्वीट करके इसकी जानकारी दी। विकास स्वरुप ने ट्वीट में लिखा ‘उरी अटैक के मामले में विदेश सचिव जयशंकर ने पाकिस्तानी राजदूत को विदेश मंत्रालय में तलब किया है।‘

उरी आतंकी हमले में एकबार फिर ये साबित हो गया है कि पाकिस्तान अब भी आतंकियों की मदद कर रहा है। विदेश मंत्रालय की तरफ से साफ शब्दों में बासित को कहा गया है कि पाकिस्तान अपने वादे पर कायम रहे और आतंकवाद को शरण देने और उसकी आर्थिक मदद करना बंद करे।
अब्दुल बासित को इससे पहले भी विदेश मंत्रालय में तलब किया गया था। तब बासित से उरी हमले पर भारत ने अपनी सख्त नाराजगी जताई थी। और इसमें पाकिस्तान के शामिल होने की बात कही थी। हलांकि बासित ने बाद में भारत के आरोपों को खारिज करते हुए कहा था कि ‘कश्मीर मुद्दे से ध्यान भटकाने के लिए भारत की तरफ से इस तरह के आरोप लगाए जा रहे हैं।‘

Loading...

Leave a Reply