भारतीय सेना ने POK में की सर्जिकल स्ट्राइक, आतंकी कैंप तबाह

दिल्ली: भारतीय सेना के DGMO रणधीर सिंह ने प्रेस कांफ्रेंस कर जानकारी दी गई है कि बुधवार की रात को भारतीय सेना ने पाक अधिकृत कश्मीर यानि POK में सर्जिकल स्ट्राइक किये। जिसमे दुश्मनों को काफी नुकसान हुआ। इस सर्जिकल स्ट्राइक में भारतीय सेना के स्पेशल फोर्स के कमांडो शामिल थे। भारतीय सेना को इस बात की पुख्ता जानकारी मिली थी कि पीओके में लॉन्चिंग पैड पर आतंकी भारत में घुसपैठ के लिए इकट्ठा हुए थे।

भारतीय सेना ने एक पूरी रणनीति तैयार की। डीजीएमओ रणधीर सिंह ने कहा कि भारतीय सेना की तरफ की गई इस कार्रवाई में कई आतंकी मारे गए हैं। साथ ही वो भी मारे गए जो उन आतंकियों को बचाने के लिए सामने आए थे।

पाकिस्तानी मीडिया ये दावा कर रहा है कि दो भारतीय सैनियों ने सीमापार से फायरिंग करके दो पाकिस्तनी सैनिकों को मार दिया है। लेकिन सच्चाई ये है कि भारतीय सेना के स्पेशल फोर्स के कमांडो भारतीय सीमा को पार कर पीओके में लॉन्चिंग पैड को पूरी तरह से नेस्तनाबुद करके भारतीय कमांडो वापस आ गए।

इस सर्जिकल स्ट्राइक में भारतीय कमांडो के एक भी जवान को ना तो किसी तरह की चोट आई और ना ही उन्हें कोई नुकसान हुआ। जानकारी के मुताबिक पीओके में लॉन्चिंग पैड में तकरीबन 100 से 150 आतंकी मौजूद थे।

सेना के इस सर्जिकल स्ट्राइक के बाद पाकिस्तानी पीएम का बयान सामने आया है। जिसमें नवाज शरीफ ने कहा है कि ‘हमारी शांति की चाहत को कमजोरी न समझे। नवाज शरीफ ने सर्जिकल स्ट्राइक की भी निंदा की है।‘

जाहिर है इस पूरे ऑपरेशन से पाकिस्तान पूरी तरह से बौखलाया हुआ है। इस सर्जिकल स्ट्राइस की निगरानी एनएसए अजीत डोभाल, रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर और सेना प्रमुख दलबीर सिंह सोहाग, DGMO रणधीर सिंह निगरानी कर रहे थे। इस सर्जिकल स्ट्राइक के बारे में राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को जानकारी दी गई। उरी हमले के बाद ही प्रधानमंत्री मोदी ने सेना को इस बात के निर्देश दे दिये थे कि उनकी तरफ से पूरी इजाजत है लेकिन वक्त और जगह सेना तय करे। उसी निर्देश पर सेना ने अपनी तैयारी की और इस सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दिया गया।

Loading...

Leave a Reply