नोटबंदी का देश के आर्थिक विकास दर पर हुआ बहुत बुरा असर

नई दिल्ली:  देश के आर्थिक विकास दर के आंकड़े सामने आ गए हैं। आंकड़ों से साफ है कि देश के आर्थिक विकास दर पर नोटबंदी की मार पड़ी है। आंकड़ों के मुताबिक 2016-17 में देश की आर्थिक विकास दर 7.1 फीसदी रही है। जबकि यही दर 2015-16 में 8 फीसदी थी। जनवरी से मार्च 2017 के दौरान भी विकास दर गिरकर 5.6 फीसदी हो गई। जबकि जनवरी-मार्च 2016 में विकास दर 8.7 फीसदी रही थी। वित्त वर्ष 2017 की चौथी तिमाही में जीडीपी विकास दर 6.1 फीसदी रही।

अगर अलग अलग सेक्टर की बात करें तो

कृषि सेक्टर में वित्त वर्ष 2017 में ग्रोथ 0.7 फीसदी से बढ़कर 4.9 फीसदी रही है। वित्त वर्ष  2017 की चैथी तिमाही में कृषि सेक्टर की ग्रोथ 1.5 फीसदी से बढ़कर 5.6 फीसदी रही है।

मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर में 2017 की ग्रोथ 10.8 फीसदी से घटकर 7.9 फीसदी रही। सालाना आधार पर वित्त वर्ष 2017 की चौथि तिमाही में मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की ग्रोथ 12.7 फीसदी से घटकर 5.3 फीसदी रही है।

माइनिंग सेक्टर में वित्त वर्ष 2017 में ग्रोथ 10.5 फीसदी से घटकर 1.8 फीसदी रही। वित्त वर्ष 2017 की चौथी तिमाही में माइनिंग सेक्टर की ग्रोथ 10.5 फीसदी से घटकर 6.4 फीसदी रही।

अप्रैल में कोर सेक्टर की ग्रोथ रेट में भी गिरावट देखने को मिली है। अप्रैल में कोर सेक्टर की ग्रोथ रेट 2.5 फीसदी रही। मार्च में कोर सेक्टर की ग्रोथ 5.3 फीसदी रही थी।

Loading...

Leave a Reply