बजट में मोदी सरकार का मास्टर स्ट्रोक, 5 लाख तक की आमदनी टैक्स फ्री

नई दिल्ली:  मोदी सरकार ने अपना आखिरी बजट पेश किया। कार्यकारी वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने बजट पेश करते हुए जो सबसे बड़ी बात कही वो ये थी कि अब 5 लाख तक की आमदनी को टैक्स की सीमा से बाहर कर दिया है। यानि अब 5 लाख तक की आमदनी पर कोई इनकम टैक्स नहीं देना होगा। पहले आयकर टैक्स छूट की सीमा ढाई लाख थी।

आयकर छूट सीमा 5 लाख करने से सबसे ज्यादा फायदा नौकरी पेशा मध्यम वर्ग के लोगों को मिलेगा। मोदी सरकार ने जिस तरह से मध्यम वर्ग को छप्पर फाड़ राहत दी है उसे देखते हुए इसे चुनावी बजट भी माना जा रहा है। टैक्स कटौती के एलान के साथ ही सदन के भीतर का माहौल भी बदल गया। पूरा सदन मोदी-मोदी के नारे से गूंज उठा।

रामविलास पासवान, उमा भारती समेत सत्ता पक्ष के नेता मोदी सरकार के इस अंतरिम बजट को विपक्ष पर सर्जिकल स्ट्राइक बता रहे हैं। आयकर सीमा बढ़ाने के बाद अब विपक्ष के लिए भी ये आसान नहीं है कि वो किस तरह से इस अंतरिम बजट की आलोचना करें।

गौरतलब है कि इससे पहले इनकम टैक्स में आयकर टैक्स छूट की सीमा पहले ढाई लाख थी। यानि साल में ढाई लाख तक की कमाई करनेवालों को कोई टैक्स नहीं देना पड़ता था। जबकि ढाई से 5 लाख तक की आय वालों को 5 फीसदी की दर से टैक्स लगता था। लेकिन अब 5 लाख तक की आमदनी पर कोई टैक्स नहीं लगेगा।

प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना के तहत देश के सभी ऐसे किसानों जिनके पास दो हेक्टेयर से कम भूमि है उन्हें 6 हजार रुपये सालाना दिया जाएगा। ये रकम उनके अकाउंट में जमा होगा।

(Visited 17 times, 1 visits today)
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *