मध्यप्रदेश के CM कमलनाथ के 50 करीबी पर आयकर का छापा, CRPF-पुलिस में भिड़ंत

भोपाल:  मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में हालात पश्चिम बंगाल जैसे बन गए हैं। जहां सीएम कमलनाथ के करीबी के घर के बाहर सीआरपीएफ और मध्यप्रदेश पुलिस के बीच भिड़ंत हुई है। जिसके बाद और सीआरपीएफ जवान मौके पर मंगवाए गए। दरअसल आयकर विभाग के अधिकारी कमलनाथ के ओएसडी के करीबी अश्विन शर्मा और प्रतीक जोशी के घर प्लेटिनम प्लाजा में छापेमारी करने पहुंची। भोपाल और इंदौर में पुलिस ने छापेमारी वाली जगह पर भीतर घुसने की भी कोशिश की।

मुख्यमंत्री कमलनाथ के ओएसडी प्रवीण कक्कड़ के करीबी अश्विन शर्मा और प्रतीक जोशी के पर आयकर विभाग ने सीआरपीएफ की मदद से छापेमारी की। इसी बीच मध्य प्रदेश पुलिस ने प्लेटिनम प्लाजा को घेर लिया। पुलिस और सीआरपीएफ के बीच नोंकझोंक भी हुई है। प्लेटिनम प्लाजा की छठी मंजिल पर प्रतीक जोशी और अश्विन शर्मा रहते हैं।

भोपाल के सिटी एसपी भूपिंदर सिंह ने कहा छापेमारी से हमारा कुछ लेनादेना नहीं है। इस आवासीय परिसर में कई ऐसे लोग हैं जिन्हें मेडिकल सहायता की आवश्यकता है। वे मदद के लिए स्थानीय एसएचओ को बुला रहे हैं। उन्होंने छापेमारी के कारण पूरे परिसर को बंद कर दिया है। उन्हीं लोगों की सहूलियत के लिए हम यहां पहुंचे हैं।

वहीं सीआरपीएफ के अधिकारी प्रदीप कुमार ने कहा मध्य प्रदेश पुलिस के अफसर हमें गालियां दे रहे हैं। पुलिस हमें अपना काम नहीं करने दे रही है। हम केवल अपने सीनियर्स के आदेशों का पालन कर रहे हैं। सीनियर्स ने हमें किसी को भी अंदर नहीं जाने देने के लिए कहा है। इसलिए किसी को भी अंदर नहीं जाने दे रहे हैं। हम केवल अपनी ड्यूटी पूरी कर रहे हैं।

सीआरपीएफ ने कहा कि केवल एमपी पुलिस जो दावे कर रही है वो सही नहीं है। केवल छापे में शामिल लोगों को रोका गया है। आम नागरिकों को कोई तकलीफ नहीं हो रही है।

आयकर विभाग ने कमलनाथ के भांजे रातुल पुरी, निजी सचिव और पूर्व पुलिस अधिकारी प्रवीण कक्कड़, सलाहकार रहे राजेंद्र कुमार मिगलानी और भोपाल में प्रतीक जोशी और अश्विन शर्मा के करीब 50 ठिकानों पर एक साथ छापेमारी की है। अभी तक ये साफ नहीं है कि आयकर विभाग को क्या-क्या मिला है। लेकिन जानकारी मिल रही है कि आयकर अधिकारियों को छापेमारी में करोड़ों रुपये कैश और अहम दस्तावेज मिले हैं।

(Visited 124 times, 1 visits today)
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *