किसी का इंतजार किये बगैर मुझे अकेले चुनाव प्रचार शुरु करना होगा-अखिलेश

लखनऊ: यूपी में समाजवादी मुलायम के घर की लड़ाई का असर अब पार्टी की चुनावी तैयारियों पर दिखने लगी है। एक अखबार को दिये इंटर्व्यू में सीएम अखिलेश यादव ने कहा कि उन्हें मुश्किल परिस्थितियों में फंसाया जा सकता है लेकिन हराया नहीं जा सकता। अखिलेश ने कहा कि 2017 विधानसभा चुनाव में पार्टी की मौजूदा हालत को देखते हुए मुझे अकेले ही चुनाव प्रचार की शुरुआत करनी होगी।

अखिलेशन कहा कि बचपन में मेरा नाम मुझे खुद ही रखना पड़ा था। ठीक उसी तरह मुझे लगता है कि किसी और का इंतजार किये बगैर मुझे अकेले अपने दम पर चुनाव प्रचार शुरु करना होगा। मुलायम परिवार में जो लड़ाई घर की चहारदीवारी के भीतर शुरु हुई थी जब वो बाहर आई और लखनऊ की सड़कों पर एक ही परिवार और एक ही पार्टी के दो सदस्य अपने अपने समर्थकों के साथ शक्ति प्रदर्शन कर रहे थे तो ये चर्चा भी शुरु हुई कि इसबार समाजवादी पार्टी की हालत कुछ ठीक नहीं है।

लेकिन इस हालात में भी अखिलेश को भरोसा है कि जनता उन्हें एक और मौका जरुर देगी। उन्होंने कहा मैं गर्व नहीं कर रहा हूं। लेकिन एक परफेक्ट बल्लेबाज की तरह जिसके बल्ले से रन निकलते रहते हैं और रिकॉर्ड बनते रहते हैं, मैंने और मेरी सरकार ने प्रदेश में जो काम किया है उसके आधार पर हमें दूसरा मौका मिलना निश्चित है।

सरकार का दावा है कि प्रदेश में विकास का काम किया गया है। लेकिन कहा जा रहा है कि पारिवारिक झगड़े में सरकार की वो उपलब्धी को धूमिल हो गई। इसपर अखिलेश का कहना है कि मैं यह बात कहूंगा कि कुछ समय के लिए अखिलेश यादव को मुश्किल परिस्थितियों में फंसाया जा सकता है लेकिन हराया नहीं जा सकता। प्रदेश की जनता को मुझपर भरोसा है और वो लोग मुझे सेवा करने का एक और मौका जरुर देंगे।
जनता ने यह महसूस किया है कि जब बिना किसी अनुभव के जैसा कि विपक्ष ने आरोप लगाया जब मैं इतना कुछ कर सकता हूं तो अपनी दूसरी पारी में मैं प्रदेश को विकास की नई ऊंचाइयों पर ले जा सकता हूं।

मुलायम और शिवपाल को लेकर पूछे गए सवाल पर अखिलेश ने कहा कि मौजूदा समय में परिवार में कोई झगड़ा या संकट नहीं है। नेताजी मेरे पिता हैं और शिवपाल मेरे चाचा। यह रिश्ता कभी नहीं बदलेगा, फिर चाहे जो हो जाए।

Loading...