अगर रहना चाहते हैं सदा जवान तो करें ये उपाय

इंसान जब जवानी के दिनों में रहता है तो उसे अपने बुढ़ापे के बारे में सोचने की फुर्सत नहीं होती है। लेकिन जैसे जैसे उम्र ढलान की तरफ बढ़ती है तो शरीर में भी की बदलाव आने शुरु हो जाते हैं। उस वक्त इंसान की कोशिश ये होती है कि किस तरह से अपनी बढ़ती उम्र को रोका जाए। हलांकि ये संभव नहीं है। उम्र का बढ़ना एक प्राकृतिक क्रिया है, इसे रोका नहीं जा सकता है। लेकिन इसके बावजूद कुछ चीजें हैं जो इंसान के वश में होती है। अगर वक्त पर उसका पालन किया जाए और अपनी दिनचर्या सही रखी जाए तो शरीर पर बढ़ती उम्र का असर होने से रोका जा सकता है।

ड्राइ फ्रूट्स का सेवन इसमें काफी फायदेमंद है। उसमें भी अकर अखरोट का सेवन किया जाए तो इसके अनेकों पायदे हैं। अखरोट प्रोटीन का सबसे बढ़िया श्रोत है। अखरोट शरीर से बुरे कोलेस्ट्रॉल को निकालने में भी मददगार होता है। इसमें ओमेगा-3 भरपूर मात्रा में रहता है और इसमें पाए जाने वाले एंटी इंफ्लैमेटरी गुण ब्लड प्रेशर के खतरे को कम करते हैं।

रिसर्च में भी ये बात साबित हो चुका है कि सप्ताह में 1 या 2 बार चौथाई कप अखरोट खानेवाली महिलाओं में शारीरिक परेशानियां होने की संभावना कम रहती है। साथ ही वह एजिंग के प्रभाव से भी बची रहती है। जितने भी तरह के नट होते हैं उनमें अखरोट काफी फायदेमंद है। अखरोट में पॉलीअनसेचुरेटेड फैट पाया जाता है। जिसमें वनस्पति आधारित ओमेगा-3 फैटी अम्ल अल्फा-लिनोलेनिक अम्ल यानि (एएलए) शामिल है। रिसर्च के मुताबिक एक औंस यानि तकरीबन 28.5 ग्राम अखरोट में ढाई ग्राम एएलए पाया जता है।

अखरोट के अलावे फल और सब्जियों का ज्यादा सेवन करने और खाने में सलाद का सेवन करने से भी शरीर पर एजिंग का असर कम दिखाई देता है। चीनी मिले पेय पदार्थ, ट्रांस फैट और सोडियम कम मात्रा में लेने से भी इंसान खुद को ज्यादा वक्त तक जवान रख सकते हैं। शरीर को लंबे वक्त तक तंदुरुस्त और फुर्तिला रखने के लिए शराब और सिगरेट के सेवन से बचें।

खान पान के साथ साथ रोजाना व्यायाम और प्राणायाम करके भी एजिंग इफेक्ट को कम किया जा सकता है।

Loading...