जयललिता के इन 8 फैसलों ने उन्हें जया से ‘अम्मा’ बना दिया




नई दिल्ली: जयललिता आज हमारे बीच नहीं हैं। लेकिन जिस तरह से एक अभिनेत्री से वो नेता बनीं और जनता को अपने साथ जोड़ा वो अपने आप में काफी अहम है। राजनीति में संघर्ष करती हुई जब जयललिता तमिलनाडु की सीएम बनीं तो उन्होंने कुछ ऐसे फैसले भी लिये जिसने सभी को हैरान कर दिया। आईये जानते हैं अम्मा के उन 8 फैसलों के बारे में।

  1. 21 जून 2001 को अपने राजनीतिक प्रतिद्वंद्वि DMK प्रमुख करुणानिधि को रात के दो बजे घर से जबरन उठवा लिया था और उन्हें जेल में डाल दिया था। इस घटना की चर्चा हर तरफ हुई। वो तस्वीर जिसने भी देखी हैरान रह गया। जयललिता के इस फैसला की आलोचना भी हुई। बाद में करुणानिधि को रिहा कर दिया गया।
  2. 2001 में ही जयललिता ने तमिलनाडु में लॉटरी पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया। ये वो दौर था जब राज्य में लॉटरी का धंधा एक बड़ा कारोबार बन गया था।
  3. इसी साल यानि 2001 में ही जयललिता ने मंदिरों में जानवरों की बलि पर रोक लगा दी। इस फैसले का खामियाजा भी उन्हें उठाना पड़ा। 2004 के लोकसभा चुनाव में पार्टी की करारी हार हुई। जिसके बाद उन्होंने इस फैसले को भी वापस ले लिया।
  4. हड़ताल पर जानेवाले कर्मचारियों के खिलाफ 2001 में जयललिता ने वो फैसला लिया था जिसे अबतक किसी राज्य सरकार ने लेने की हिम्मत नहीं दिखाई थी। 2001 में हड़ताली कर्मचारियों पर सख्त कार्रवाई करते हुए उन्होंने दो लाख कर्मचारियें को एक ही झटके में नौकरी से निकाल दिया।
  5. 2001 में किसानों को मिलने वाली मुफ्त बिजली पर उन्होंने पाबंदी लगा दी थी। उनके इस फैसले से जनता नाराज हो गई। जिसका नतीजा ये हुआ कि 2004 के लोकसभा चुनाव में पार्टी की हार हो गई। इसके बाद उन्होंने अपना फैसला भी बदल दिया।
  6. 1992 में लड़कियों की सुरक्षा के लिए ‘क्रैडल बेबी’ स्कीम शुरु की गई। ताकि अनाथ और बेसहारा बच्चियों को खुशहाल जीनव मिल सके।
  7. 2013 में गरीबों को रियायती दर पर भोजन मुहैया कराने के लिए अम्मा कैंटीन की शुरुआत की गई। जिसमें काफी कम कीमत पर लोगों को भोजन मुहैया कराई जाती है। इस कैंटीन में एक रुपये में इडली, तीन रुपये में दो चपाती, पांच रुपये में एक प्लेट सांभर लेमन राइस या कर्ड राइस मिलता है।
  8. अम्मा ने चुनाव में लोगों से जो वादा किया उसे निभाया। इसी में से एक वादा उन्होंने शराबबंदी का किया था। 2016 में उन्होंने चरणबद्ध तरीके से राज्य में शराबबंदी की शुरुआत की। पहले चरण में उन्होंने राज्य में शराब की 500 रीटेल शॉप बंद करने का फैसला लिया।
Loading...