सबजार के मारे जाने के बाद उसका आतंकी दोस्त दानिश ने किया सरेंडर

नई दिल्ली:  पिछले दिनों त्राल में हुए एनकाउंटर में सुरक्षाबलों ने हिज्बुल कामंडर सबजार को मार गिराया था। सबजार के मारे जाने के बाद घाटी में आतंकी  संगठन हिज्बुल एक तरह से अनाथ हो चुका है। सबजार के जनाजे मे हथियारों के साथ शामिल हुआ उसका दोस्त आतंकी दानिश अहमद ने अब सरेंडर कर दिया है। दानिश ने हंदवाड़ा पुलिस और 21 राजपुताना राइफल्स के सामने सरेंडर किया। उसने पुलिस को बताया वह दक्षिण कश्मीर के आतंकियों के संपर्क में था और उन्हीं के कहने पर वो हिज्बुल में शामिल हुआ था।

दानिश का समर्पण करना सेना की बड़ी कामयाबी है। सबजार के जनाजे में दानिश हेंड ग्रेनेड के साथ शामिल हुआ था। इस वीडियो में दिख रहे दानिश के बारे में जब जांच की गई तो पता चला वो हंदवाड़ा के कुलगाम में रहनेवाले फारुक अहमद का बेटा दानिश है। दानिश दून के कृषि विज्ञान एवं टेक्नॉलजी पीजी कॉलेज से बीएससी फाइनल ईयर की तैयारी कर रहा था।

सुरक्षा एजेंसियों ने एकबार 2016 में दानिश को गिरफ्तार किया था। लेकिन काउंसिलिंग के बाद उसे छोड़ दिया गया। इसबार जब सुरक्षा एजेंसियों को पता चला कि दानिश आतंकियों के संपर्क में आ चुका है। तब उन्होंने उसके माता-पिता से कहा कि दानिश को आत्मसमर्पण के लिए राजी करे। सुरक्षा एजेंसियों की कोशिश का ही नतीजा रहा कि दानिश ने सरेंडर कर दिया।

Loading...