Burhan-Muzaffar-Wani

हिजबुल का पोस्टर बॉय बुरहान वानी मुठभेड़ में मारा गया

हिजबुल का पोस्टर बॉय बुरहान वानी मुठभेड़ में मारा गया

जम्मू कश्मीर में सेना को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। युवाओं को सेशल साइट के जरिये आकंती संगठन से जोड़ने वाला हिजबुल का कमांडर बुरहान वानी ज्वाइंट ऑपरेशन में मारा गया। वानी के मारे जाने के बाद घाटी में कई जगहों पर हालात तनावपूर्ण हो गए हैं। वानी के समर्थन में अलगाववादियों ने घाटी में तीन दिन के राज्यव्यापी बंद का एलान किया है। हालात को देखते हुए घाटी में हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है।

तनावपूर्ण हालात को देखते हुए पुलवामा, शोपियां और अनंतनाग में कर्फ्यू लगा दिया गया है। बारामुला-काजीगुंड ट्रेन सेवा को भी रद्द कर दिया गया है। एहतियात के तौर अमरनाथ यात्रा पर भी रोक लगा दी गई है। हिजबुल कमांड बुरहान वानी कश्मीर घाटी में सोशल मीडिया पर आतंकियों का पोस्टर बॉय था। सुरक्षाबलों ने उसे शुक्रवार को श्रीनगर के दक्षिण में 85 किलोमीटर दूर बुमदूरा गांव में मारा ।

बुरहान पर 10 लाख का इनाम रखा गया था। पुलिस और सेना को काफी वक्त से उसकी तलाश थी। इससे पहले भी कई बार उसे घेरने की कोशिश की गई थी। लेकिन वो सुरक्षाबलों को चकमा देकर भागने में कामयाब रहा था। लेकिन इसबार पुख्ता खुफिया जानकारी के बाद सेना और पुलिस की तरफ से कोई कोताही नहीं बरती गई। इस ऑपरेशन में जम्मू कश्मीर पुलिस और 19 राष्ट्रीय रायफल्स का स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप शामिल था। बुरहान वानी समेत तीन आतंकी फारुक अहमद के घर में छिपे थे। सुरक्षाबलों के पास बुरहान के वाहां छिपे होने की पुख्ता जानकारी थी। इसलिए पहले गांव की हर तरफ से घेराबंदी कर दी गई। उसके बाद ऑपरेशन शुरु किया गया। बुरहान ने इसबार भी चकमा देने की कोशिश की। लेकिन उसे ये एहसास हो गया कि इसबार घेराबंदी मजबूत है। जिसके बाद दोनों तरफ से फायरिंग शुरु हुई। जिसमें बुरहान और उसके दो साथी मारे गए।

बुरहान के मारे जाने की खबर जैसे ही घाटी में फैली प्रदर्शन शुरु हो गया। श्रीनगर अनंतनाग हाईवे पर प्रदर्शनकियों ने कई जगह टायर जला दिये जिससे कई वाहन रुक गए। कई जगहों पर जनाजे की नमाज पढ़ी जाने लगी। कई जगह पर युवाओं ने बुरहान के समर्थन में नारेबाजी की।

हुर्रियत प्रमुख सैयद अली गिलानी ने ज्यादा से ज्यादा लोगों से बुरहान के जनाजे में पहुंचने की अपील की थी। हुर्रियत की तरफ से बंद के एलान के बाद एहतियातन हुर्रियत नेताओं को नजरबंद कर दिया गया। जिनमें सैयद अली शाह गिलानी, मीरवाइज और यासीन मलिक शामिल हैं।
-Burhan Muzaffar Wani,

Loading...

Leave a Reply