हिंदुस्तान मोटर्स के ऐंबैसडर पर अब फ्रेंच कंपनी पूजो का मालिकाना हक

हिंदुस्तान मोटर्स के ऐंबैसडर पर अब फ्रेंच कंपनी पूजो का मालिकाना हक




नई दिल्ली: किसी वक्त में शाही सवारी के नाम से मशहूर एंबैसडर को अब फ्रेंच कंपनी पूजो ने खरीद लिया है। सीके बिड़ला ग्रुप के मालिकाना हक वाली हिंदुस्तान मोटर्स ने एंबैसडर को मात्र 80 करोड़ में पूजो को बेच दिया है। एक वक्त में प्रधानमंत्री तक इसी कार में सवारी किया करते थे।

सीके बिड़ला ग्रुप के प्रवक्ता ने बताया ‘हमने पूजे एसए ग्रुप के साथ अपने ब्रैंड और ट्रेडमार्क ऐंबैसडर को बेचने का समझौता किया है। ऐंबैसडर एक लोकप्रिय ब्रांड है और हम इसे बेचने के लिए एक सही खरीदार देख रहे थे। फ्रेंच कंपनी एक सही खरीदार है। इस सौदे के बाद हम कर्मचारियों के ड्यूज और बाकी दूसरी देनदारियां देंगे।‘

ऐंबैसडर को तकरीबन 70 साल पहले भारत में लॉन्च किया गया था। तब हिंदुस्तान मोटर्स ने मॉरिस ऑक्सफोर्ड सीरीज II को कुछ बदलाव के साथ नए रुप में बाजार में उतारा था। लॉन्च होने के बाद जल्द ही इस कार ने रफ्तार पकड़ ली थी और भारत की पहचान बन गई थी। 1980 के दशक में मारुती आने से पहले तक ऐंबैसडर भारतीय कार बाजार में बेताज बादशाह थी।

इस कार की मांग किस हद तक गिर गई थी इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि 1980 के दशक में हर साल 24,000 कार की बिक्री होती थी। लेकिन 2013-14 में यह संख्या घटकर 2500 पर आ गई थी। मांग में आई गिरावट के बाद कंपनी ने 24 मई 2014 को ऐंबैसडर का उत्पादन बंद कर दिया था।

Loading...

Leave a Reply