हार्दिक पटेल ने उठाया लालटेन तो तेजस्वी यादव ने कह दी ये बड़ी बात

हार्दिक पटेल ने उठाया लालटेन तो तेजस्वी यादव ने कह दी ये बड़ी बात

नई दिल्ली:  लालटेन भी बड़ी अजीब चीज है। रात के अंधियारे में जलाई जाए तो उजाला कर देता है और सियासत की सड़क पर जलाई जाए तो एक नई पार्टी बन जाती है। लेकिन इसबार यहां जिस लालटेन की बात हो रही है उसका ताल्लुक गिजरात से है। इसबार इस लालटेन को थामने वाले हाथ का नाम है हार्दिक पटेल। ये वही हार्दिक पटेल हैं जो गुजरात में पाटीदार आंदोलन के बड़े नेता हैं और जिनकी मदद से गुजरात में कांग्रेस के विधायकों की गिनती इसबार 80 तक पहुंच गई।

उसी हार्दिक पटेल ने एक फोटी ट्वीट किया है। जिसमें उन्होंने हाथ में लालटेन  थाम रखा है। इस तस्वीर के साथ हार्दिक ने लिखा है आज मैं अपने गांव आया हूं। लेकिन आज गांव में बिजली चली गई तो मैंने लालटेन जलाई और अंधेरा दूर किया। बहुत काम आता है लालटेन आज पता चला।

हार्दिक ने जो लालटेन गुजरात में अपने गांव में जलाई थी उसकी खबर बिहार तक पहुंच गई। बिहार में इसी लालटेन की बिरासत की पहरेदारी करने वाले पहरेदार का नाम हा तेजस्वी यादव। लालटेन आरजेडी का चुनाव चिन्ह है। हार्दिक के इस लालटेन वाले ट्वीट पर तेजस्वी ने बेहद ही गंभीर बात कह दी। ट्वीटर पर तेजस्वी ने लिखा हार्दिक भाई नफरतों के खिलाफ मोहब्बत की लालटेन जलाते रहना है। अन्याय के अंधेरों के खिलाफ न्याय का प्रकाश फैलाना है। डटकर लड़ना और लड़कर जीतना है। नौजवान है संघर्ष के सिवाय करना क्या है?

अब अगर हार्दिक और तेजस्वी के बातों पर जरा गंभीरता से विचार किया जाए तो इसमें एक बेहद ही गंभीर संदेश छिपा है। जिसमें भविष्य में एक नया उभरता हुआ सियासी गठबंधन दिखाई दे रहा है। एक तरफ हार्दिक लालटेन थामकर अंधेरा दूर करने की बात कर रहे हैं दूसरी तरफ तेजस्वी ने युवा संघर्ष की बात कही है। गुजरात में इसबार तीन युवाओं की टोली ने बीजेपी का काफी नुकसान कर दिया है। इसलिए इससे इनकार नहीं किया जा सकता है कि युवाओं की ये जोड़ी भविष्य में गुजरात से बाहर निकलकर इकट्ठी हों और बीजेपी के सामने एक नई शक्ति बनकर उभरें। क्योंकि तीसरे मोर्ची की परिकल्पना तो साकार होती नहीं दिख रही है।

Loading...