‘जब हार्दिक मेट राहुल’ गुपचुप मुलाकात में समर्थन के बदले रखी शर्त!, Video

‘जब हार्दिक मेट राहुल’ गुपचुप मुलाकात में समर्थन के बदले रखी शर्त!, Video

नई दिल्ली:  इस मुलाकात के बारे में किसी भी तरफ से कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है। ना ही हार्दिक पटेल ने इस मुलाकात की पुष्टि की है और ना ही कांग्रेस की तरफ से राहुल और हार्दिक की मुलाकात की बात कही गई है। लेकिन ताज होटल में लगे सीसीटीवी के फुटेज के आधार पर मीडिया की तरफ से ये दावा किया जा रहा है कि राहुल और हार्दिक के बीच मुलाकात हो चुकी है। NTI भी आपको वो वीडियो दिखा रहा है। लेकिन इसकी सत्यता के बारे में कोई पुष्टि नहीं करता है। सूत्र ये भी बता रहे हैं कि इस मुलाकात में हार्दिक पटेल ने कांग्रेस को समर्थन के बदले तीन प्रमुख मांग रखी है। हलांकि हार्दिक पटेल से जब मुलाकात के बारे में पूछा गया था तो उन्होंने कहा था जब वो राहुल से मिलेंगे तो सभी के सामने मिलेंगे।

सूत्र बता रहे हैं कि राहुल गांधी से मुलाकात के दौरान हार्दिक पटेल ने अपनी तीन अहम मांग उनके सामने रखी। जिसमें पहली शर्त पाटीदारों को आरक्षण देने की थी, दूसरी शर्त सरकार बनने पर उसमें भागीदारी और तीसरी शर्त पाटीदारों पर हुए राष्ट्रद्रोह का केस वापस लेने से जुड़ी थी। हलांकि दोनों की ये बातचीत कहां तक पहुंची इस बारे अभी कोई जानकारी नहीं मिली है।

दरअसल कांग्रेस को समर्थन देने से पहले हार्दिक अपनी मांगों पर पार्टी का रूख जानना चाहते हैं। इसलिए हार्दिक कांग्रेस से ये साफ करवाना चाहते हैं कि अगर कांग्रेस सत्ता में आती है तो किन प्रावधानों के तहत पाटीदारों को आरक्षण दिया जाएगा, सरकार में पाटीदारों की भागीदारी कितने फीसदी होगी और पाटीदारों पर हुए राष्ट्रद्रोह के केस वापस लेने और पाटीदारों की हत्या के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई की मांग रखी।

कांग्रेस को समर्थन देने में हार्दिक पटेल के सामने भी एक धर्म संकट है। क्योंकि पाटीदार बीजेपी के खिलाफ तो हो गए हैं लेकिन उन्होंने कांग्रेस को स्वीकार नहीं किया है। यही नहीं पाटीदारों में भी बुजुर्गों और युवाओं की सोच अलग है। शायद ये भी वजह है कि हार्दिक पटेल कांग्रेस या राहुल गांधी से आधिकारिक मुलाकात से पहले ये सुनिश्चित कर लेना चाहते हैं कि पाटीदार उनके साथ हैं।

Loading...

Leave a Reply