guru-purnima

गुरु पूर्णिमा की सभी को शुभकामनाएं, जानिये आज के दिन का महत्व

गुरु पूर्णिमा की सभी को शुभकामनाएं, जानिये आज के दिन का महत्व

नई दिल्ली:  9 जुलाई रविवार का दिन उन्हें समर्पित है जिन्हें हम गुरू के नाम से संबोधित करते हैं। गुरु शब्द जितना छोटा है उसका विवरण और मतलब उतना ही महान है। गुरु यानि जिन्होंने हमें हमारे होने का मतलब सिखाया, गुरु यानि वो जिन्होंने हमें ये बताया कि क्या सही है और क्या गलत, गुरु यानि वो जिन्होंने हमें कर्मयोगी की परिभाषा बताई। तभी तो शास्त्रों में भी कहा गया है गुरू की महिमा अपरमपार है। गुरु पूर्णिमा का शाब्दिक अर्थ है गुरु की पूजा।

गुरु पूर्णिमा के मौके पर यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ पहली बार गोरखपुर पहुंचे। जहां उन्होंने सुबह गोरखनाथ मठ में पूजा अर्चना की। उसके बाद उन्होंने गौशाला जाकर गायों को गुड़ खिलाया। योगी आदित्यनाथ जब सीएम नहीं थे उस वक्त भी वो सुबह तीन बजे जागते थे। योग साधना के बाद वो मंदिर में पूजा करते थे और उसके बाद गौशाला जाकर गायों को गुड़ खिलाते थे।

पौराणिक काल से बुद्ध के अनुयायी गुरु पूर्णिमा को मनाते आए हैं। बौद्ध धर्म के साथ साथ गुरु पूर्णिमा की दूसरे धर्मों में भी मान्यता है। ऐसी मान्यता है कि महात्मा बुद्ध को पहला ज्ञान गुरु पूर्णिमा के दिन ही मिला था। गुरु पूर्णिमा को महाभारत के रचयिता व्यास मुनी को गुरु-शिष्य परंपरा के तौर पर समर्पित किया जाता है। आसाढ़ महीने की पूर्णिमा के दिन जब पूर्ण चंद्र होता है तब गुरु पूर्णिमा मनाया जाता है।

नेपाल में गुरु पूर्णिमा को शिक्षक दिवस के रूप में मनाने की प्रथा है। शिष्य इस अवसर पर अपने गुरु को फूलों का हार पहनाते हैं और खास कपड़े की बनी टोपी भेंट करते हैं।

Loading...

Leave a Reply