इस शहर में अब नहीं बिकेंगे गोलगप्पे, छापेमारी में मिला एसिड वाला पानी

नई दिल्ली:  देश का ऐसा कोई भी शहर नहीं है जहां के लोगों ने गोलगप्पे का स्वाद नहीं चखा हो। इसके नाम लेने भर से ही लोगों की जुबान पर पानी आ जाना वाजिब है। लेकिन यही गोलगप्पा अब सेहत के लिए खतरनाक साबित होने लगा है। जिसकी वजह से गुजरात के वडोदरा में इसकी बिक्री पर फिलहाल रोक लगा दी गई है। म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन की इस कार्रवाई का आम लोगों ने भी स्वागत किया है।

दरअसल वडोदरा म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन के स्वास्थ्य अधिकारियों ने गोलगप्पों में इस्तेमाल होनेवाली सड़ी हुई सामग्री को जब्त किया है। जिसके बाद शहर में गोलगप्पों की बिक्री पर पूरी तरह से रोक लगा दी गई है। गोलगप्पों की बिक्री पर लगी ये रोक मानसून के खत्म होने तक जारी रहेगी।

अधिकारियों ने शहर में गोलगप्पा तैयार करने और बेचनेवालों पर बड़े पैमाने पर छापेमारी की। जिसमें मिलावटी तेल, सड़ा हुई आटा, सड़े हुए आलू-चना जब्त किया गया। इनका इस्तेमाल गोलगप्पे बनाने में किया जाता था।

म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन की स्वास्थ्य विभाग की टीम ने शहर में अलग अलग 50 जगहों पर छापेमारी की। इस दौरान तकरीबन 4000 किलो गोलगप्पे, 3500 किलो आलू चना, 20 किलो तेल और 1200 लीटर एसिड वाला पानी जब्त किया।

वडोदरा म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन के स्वास्थ्य विभाग की टीम ने कहा मानसून के चलते शहर में फैल रही बीमारियों को रोकने और स्वच्छता अभियान के तहत गोलगप्पों की बिक्री पर पूरी तरह से रोक लगा दी गई है। दूषित गोलगप्पों और उसके पानी से टाइफाइड, पीलिया और फूड पायजनिंग जैसी बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है।

Loading...