आधे वोट से जीते अहमद पटेल, अमित शाह और स्मृति ईरानी भी जीतीं

नई दिल्ली:  गुजरात में हुए राज्य सभा चुनाव में मंगलवार को हाई वोल्टेज ड्रामा देखा गया। चुनाव के नतीजे शाम 7 बजे तक आने की उम्मीद जताई जा रही थी। लेकिन राजनीतिक पार्टियों का जो हाई वोल्टेज ड्रामा शुरु हुआ तो वो देर रात तक चलता रहा और वोटों की गिनती 10 घंटे तक शुरु नहीं हो सकी।

रात तकरीबन 12 बजे वोटों की गिनती शुरु हुई। कांग्रेस के लिए राहत की खबर ये थी कि जिन दो कांग्रेसी विधायकों के वोट रद्द करने की अपनी पार्ट ने चुनाव आयोग से की थी उसे आयोग ने मान लिया। और दोनों कांग्रेसी विधायकों के वोट रद्द कर दिये गए। कांग्रेस के लिए ये खुश होने की वजह थी वहीं बीजेपी के लिए ये निराश कर देने वाली खबर थी। क्योंकि दोनों कांग्रेसी विधायकों के वोट रद्द होने के साथ ही शाह की पूरी रणनीति हांफने लगी।

दो वोट रद्द होने के बाद 174 वोटों की गिनती हुई। जिसके बाद अहमद पटेल को जीत के लिए 43.51 वोट की जरुरत थी।

इसके बाद वोटों की गिनती शुरु हुई। रात के तकरीबन दो बजे राज्य सभा की तीनों सीटों के नतीजे घोषित किये गए। जिसमें कांग्रेस की उम्मीदवार अहमद पटेल को विजयी घोषित किया गया। वहीं बीजेपी उम्मीदवार अमित शाह और स्मृति ईरानी को भी विजयी घोषित किया गया। अमित शाह और स्मृति ईरानी को 46-46 वोट मिले। जबकि कांग्रेस के अहमद पटेल को 44 वोट मिले।

दो कांग्रेसी विधायकों के वोट रद्द होने के बाद अहमद पटेल को चुनाव में जीत के लिए 43.51 यानि साढ़े तैतालिस वोट की जरुरत थी। जबकि अहमद पटेल को 44 वोट यानि जरुरी वोटों से आधे ज्यादा वोट मिले। अहमद पटेल पांचवी बार राज्य सभा के लिए चुने गए हैं। अहमद पटेल की जीत कांग्रेस के लिए इसलिए भी क्योंकि उनकी जीत का संबंध सीधा कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से है। अहमद पटेल सोनिया गांधी के राजनीतिक सचिव हैं। और कांग्रेस के कद्दावर नेता माने जाते हैं।

गुजरात के लिए हुए राज्य सभा चुनाव के नतीजों को देखकर कहा जा सकता है कि कांग्रेस के ये बड़ी जीत है जबकि बीजेपी दो सीट जीतकर भी हार गई। क्योंकि अहमद पटेल का रास्ता रोकने के लिए बीजेपी ने जो रणनीति बनाई थी वो कांग्रेस के पलटवार से सामने ध्वस्त हो गई।

Loading...