GST के पहले रिटर्न फाइलिंग में ही मालामाल हुआ मोदी सरकार का खजाना

नई दिल्ली:  GST लागू होने के बाद पहली बार सरकार के लिए खुश कर देने वाली खबर आई है। पहले महीने की GST रिटर्न फाइलिंग से सरकार के खजाने में 92,283 करोड़ रुपये जमा हुए हैं। इसकी जानकारी देते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बताया GST में कुल 59.57 लाख टैक्सपेयर्स रजिस्टर्ड हैं। जिनमें से अभी तक 64.4 फीसदी टैक्सपेयर्स ने रिटर्न जमा किया है। और लोगों के रिटर्न जमा कराने के बाद ये आंकड़ा और बढ़ सकता है।

सरकार को जो कुल 92,283 करोड़ रुपये मिले हैं उनमें से सेंट्रल GST में 14,894 करोड़ जमा हुए हैं, राज्य GST में 22,722 करोड़, एकीकृत GST में 47,469 करोड़ रुपये जमा हुए हैं। वित्त मंत्री ने कहा एकीकृत GST में आयात पर 20,964 करोड़ रुपये जमा हुए हैं। कार और तंबाकू जैसी वस्तुओं पर सेस के रूप में 7,198 करोड़ रुपये जमा हुए हैं।

जेटली ने कहा वार्षिक बजट में केंद्र सरकार का जुलाई का टैक्स रेवेन्यू 48,000 करोड़, राज्यों का 43,000 करोड़ रहने का अनुमान लगाया गया था। दोनों का कुल योग 91,000 करोड़ रुपये था। जेटली ने बताया GST लागू होने के बाद पहले महीने की जो रिटर्न दाखिल हुई है उसमें हमने इस लक्ष्य को पार कर लिया। उन्होंने कहा अगर इसमें से मुआवजा कर को अलग रख दिया जाए तो भी करदाताओं की तरफ से रिटर्न दाखिल करने के बाद हम इस लक्ष्य को पार कर लेंगे।

रजिस्टर्ड 59.57 लाख करदाताओं में से 38.3 लाख करदाताओं ने GST रिटर्न दाखिल किया है। पहला मासिक रिटर्न और GST के तहत करों के भुगतान की समयसीमा 25 अगस्त को खत्म हो गई है। GST दाखिल करने में देरी करने पर रोजाना 100 रुपये का जुर्माना लगाया जा रहा है।

Loading...