arun-jaitely-gst-bill

राज्यसभा में GST बिल पेश, जानिये क्या होगा सस्ता और क्या होगा महंगा

राज्यसभा में GST बिल पेश, जानिये क्या होगा सस्ता और क्या होगा महंगा

दिल्ली : वित्त मंत्री अरुण जेटली ने गुड्स एंड सर्विस टैक्स यानि GST संशोधन बिल राज्यसभा में पेश कर दिया है। जेटली ने कहा ये अबतक का सबसे बड़ा कर सुधार है। बिल पर कांग्रेस की तरफ से सुझाए गए सुधार पर सरकार की स्वीकार्यता मिलने के बाद गुलाम नबी आजाद ने कहा कि GST को पास कराने में सरकार की मदद करेंगे।

GST के लागू होने से मौजूदा वक्त में लगने वाले 30 से 35 फीसदी टैक्स की जगह केवल 17 से 18 फीसदी टैक्स भरना पड़ेगा। जीएसटी के लागू होने से मौजूदा वक्त के एक्साइज टैक्स, सर्विस टैक्स, वैट, सेल्स टैक्स, एंटरटेनमेंट और लग्जरी टैक्स खत्म हो जाएगा। इनकी जगह पर केवल एक टैक्स GST होगा। सबसे बड़ी बात ये है कि जीएसटी के लागू होने से पूरे देश में एक वस्तु की एक ही कीमत रहेगी।

केंद्र सरकार ने जिस GST बिल को राज्यसभा में पेश किया है उनमें उन बदलावों को भी शामिल किया गया है जिसके सुझाव कांग्रेस की तरफ से दिये गए थे। राज्यों ने भी कुछ सुझाव दिये थे। उसे भी सराकर ने मान लिया। कांग्रेस की सबसे बड़ी मांग थी कि राज्यों के बीच होनेवाले कारोबार में एक फीसदी एडिशनल टैक्स नहीं लिया जाए। राज्यों को अगर जीएसटी से नुकसान होता है तो केंद्र सरकार पहले के 5 साल तक 100 मुआवजा देगी।

जीएसटी को राज्य सभा से मंजूरी मिलने के बाद भी एक लंबा सफर करना है। जीएसटी को 15 राज्यों की विधानसभाओं से मंजूरी चाहिए। इसके बाद बिल को राष्ट्रपति की मंजूरी के लिए उनके पास भेजा जाएगा।। इसके बाद केंद्र सरकार को केंद्र और राज्य के लिए जीएसटी से जुड़े कानून बनाने होंगे।

पूरे देश में एक तरह की कर प्रणाली से इसका फायदा हर व्यक्ति को मिलेगा। इसके लागू होने पर 20 से ज्यादा इनडायरेक्ट टैक्स खत्म हो जाएंगे। उसके बाद केवल तीन तरह के ही टैक्स लगेंगे । जिसमें सेंट्रल जीएसटी, जिसे केंद्र सरकार वसूलेगी। स्टेट जीएसटी जिसे राज्य सरकार वकूलेगी और इंटिग्रेटड जीएसटी जिसे दोनों सरकारें बसूलेंगी।

जीएसटी लागू होने के बाद रेस्टोरेंट में खाना खाना, एयर केंडीशनर, माइक्रोवेव, मशीनरी सामान और माल ढुलाई सस्ता होगा। वहीं डिब्बा बंद फूड प्रोडक्ट, चाय, कॉफी, मोबाइल बिल, क्रेडिट कार्ड का बिल, ज्वेलरी और ब्रांडेज कपड़ा महंगा हो जाएगा। जीएसटी लागू होने पर ये भी संभव है कि पहले के तीन साल तक महंगाई बढ़ सकती है। लेकिन सरकार का मानना है कि इससे ग्रोथ रेट 2 फीसदी बढ़ेगा।

Loading...

Leave a Reply