रबी फसल की सिंचाई के लिए किसानों को मिलेगी अनुदान राशि, ऐसे करें आवेदन

प्रियांशु आनंद/पूर्णिया

पूर्णिया/बिहार:  जिले के वैसे किसान जिनकी फसल बाढ़ में बर्बाद हो गई थी उन्हें रबी फसल में पटवन के लिए अनुदान की राशि का लाभ मिलेगा। इस वर्ष रबी फसल के डीजल से पटवन करने वाले किसानों को चिंता नहीं करनी होगी। इसके लिए जिला कृषि विभाग ने पूरी तैयारी की है। किसानों को रबी फसलों के पटवन के लिए अनुदान मद में तीन बार आवेदन देने की अधिकतम सीमा है। इसके तहत सभी प्रकार के रबी फसलों की सिंचाई के लिए डीजल अनुदान दिया जाएगा। किसानों को 31 मार्च तक अधिकृत विक्रेताओं से खरीदे गए डीजल पर ही अनुदान दिया जाएगा। योजना के अनुसार 30 रुपए प्रति लीटर की दर से प्रति एकड़ 300 रुपए प्रति एकड़ सिंचाई अनुदान देय होगा। इस प्रकार किसानों को गेंहू के लिए तीन सिंचाई पर 900 रुपए दिए जाएंगे जबकि मक्के की फसल में पटवन के लिए दो बार डीजल अनुदान का लाभ मिलेगा।

पटवन मद में आवंटित हुई 02 करोड़ 96 लाख रूपए
जिले को 2017 में खरीफ फसल के पटवन के लिए आवंटित राशी 2 करोड़ 96 रुपए सरकार से मिली थी। जिसमें से अधिकांश राशि का वितरण अबतक किसानों को नहीं हो पाया है। बता दें कि जिले में खरीफ सीजन के दौरान भीषण बाढ़ आई थी। जिस कारण अधिकांश क्षेत्र जलमग्न था और जहां पटवन की गई थी उसकी रिपोर्ट अबतक जिला कृषि पदाधिकारी के कार्यालय को प्राप्त नहीं हो सका है। जिस कारण किसानों को इस मद की राशि का लाभ नहीं मिल पाया है। हालांकि विभागीय प्रावधान के अनुसार खरीफ फसल की राशी का वितरण रबी फसल के पटवन के लिए करने का निर्देश जारी किया गया है। ऐसे में कयास लगाए जा रहे हैं कि वैसे किसान जिन्हें खरीफ फसल में पटवन की राशि नहीं मिली थी उन्हें रबी फसल में पटवन का लाभ मिल जाएगा।

किसान ऐसे करें आवेदन 
डीजल अनुदान के लिए किसान को पेट्रोल पंप से डीजल खरीद की मूल रसीद के साथ अपने पंचायत सेवक, कृषि समन्वयक या किसान सलाहकार की मदद से आवेदन जमा कराना होगा। खेत के निरीक्षण रिपोर्ट के बाद किसान को डीजल अनुदान मिलेगा। राशि का भुगतान किसानों के बैंक खाते में आरटीजीएस या नेफ्ट के माध्यम से किया जाएगा। बटाईदारों को भी अनुदान मिलेगा। इसके लिए लगान रसीद या अन्य कागजात लगाने की जरूरत नहीं होगी।

डीजल अनुदान के प्रचार का निर्देश जारी
जिला कृषि पदाधिकारी सुरेंद्र प्रसाद ने कहा डीजल अनुदान योजना के लिए सभी बीएओ को निर्देश दिया गया है। प्रखंड व पंचायत स्तर पर अधिक से अधिक प्रचार प्रसार के साथ आवेदन लेने को कहा गया है। ताकि, किसानों को खरीफ के साथ साथ रबी फसल के डीजल अनुदान की जानकारी मिल सके। पेट्रोल पंप से कम्प्यूटरीकृत रसीद देने पर ही अनुदान मिलेगा। खरीफ फसल से संबंधित एक्सपेंडिचर रिपोर्ट अबतक प्राप्त नहीं हुई है। रिपोर्ट आने के बाद पता चल पाएगा कि रबी फसल के लिए कितनी राशि खर्च की जाएगी।

Loading...