गोरखपुर के वोटर बने टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली!

लखनऊ:  मतदाता सूची में गड़बड़ी कोई नई बात नहीं है। कभी नाम किसी और का और तस्वीर किसी और की होती है तो कभी बेटे की उम्र पिता से ज्यादा बताई जाती है। इसबार भी इसी तरह की गड़बड़ी यूपी के गोरखपुर में सामने आई है। जहां एक मतदाता पर्ची में टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली को गोरखपुर का वोटर बना दिया गया है। मामला जब सामने आया तो इसकी जांच की जा रही है।

गोरखपुर के सहजनवा की एक मतदाता पर्ची में टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली का नाम लिखा है। पर्ची में कोहली का मतदाता क्रमांक 822 बताया गया है। इसमें बीएलओ सुनीता चौबे का नाम और फोन नंबर दिया गया है। इस बारे में newstrendindia ने बीएलओ सुनीता चौबे से फोन पर संपर्क किया। जिसमें उनके पति दिनेश चंद्र चौबे ने कहा कि कोहली वाली पर्ची उनके पास आई ही नहीं थी।

दिनेश चंद्र का कहना था कि उनके पास मतदाता क्रमांक 1-816 तक की ही मतदाता पर्ची थी। जबकि कोहली का मतदाता क्रमांक 822 है। जब उनसे पूछा गया कि पर्ची में बीएलओ में तो सुनीता चौबे का नाम है। इसपर उन्होंने कहा कि ये कंप्यूटर ऑपरेटर की गड़बड़ी की वजह से हुआ है। उन्होंने ये भी बताया कि इस संबंध में उन्होंने इलाके के डीएम को सारी बात बता दी है।

दिनेश चंद्र का कहना था कि कंप्यूटर ऑपरेटर की गलती की वजह से उन्हें परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। एक तरफ इलाके के वोटरों में मतदाता पर्ची बांटने की जिम्मेदारी है दूसरी तरफ कोहली वाले मामले को लेकर उन्हें अधिकारियों के सामने अपनी सफाई पेश करनी पड़ रही है। फोन पर हुई बातचीत में दिनेश चंद्र ने बताया कि कई पर्चियों में नाम भी गलत लिखी गई है। तो कई मतदाता पर्चियों में जो पत्नी के नाम से है उसमें फोटो उनके पति की लगाई गई है। हलांकि डीएम की तरफ से कहा गया है कि जिनकी पर्चियों में नाम या फोटो को लेकर अशुद्धि है वो अपने आधार कार्ड को दिखाकर वोट डाल सकते हैं।

मतदाता पर्ची में हुई इस गड़बड़ी की जानकारी मीडिया तक पहुंची। जब मीडिया में ये खबर आई तो स्थानीय प्रशासन में भी हलचल तेज हो गई। बीएलओ के मुताबिक ठेका देकर क्प्यूटर ऑपरेटर से मतदाता पर्ची तैयार करवाई गई। जिसमें ये गड़बड़ी पाई गई।

गोरखपुर में रविवार को लोकसभा उपचुनाव होना है। रविवार को इसके लिए वोटिंग की जाएगी। लेकिन मतदान के दिन को लेकर भी एक बड़ी गलती की गई थी। मतदाता पर्ची में मतदान की तारीख तो 11-03- 2018 है लेकिन दिन गुरुवार दिया गया है। जबकि 11 मार्च 2018 को रविवार है। इस बड़ी गड़बड़ी को लेकर आयोग की तरफ से गजट के जरिये मतदाताओं को सही जानकारी दी गई। ताकि किसी तरह की भ्रम की स्थिति ना हो।

Loading...