YOGI ADITYANATH CM UP

यूपी में गन्ना किसानों के आ गए अच्छे दिन, मायावती के बुरे दिन की शुरुआत

यूपी में गन्ना किसानों के आ गए अच्छे दिन, मायावती के बुरे दिन की शुरुआत

लखनऊ: पूरी दुनिया जब सो रही होती है तो उत्तर प्रदेश की योगी सरकार उस योजना को तैयार कर रही होती जिससे कि यूपी के पिछड़ापन को खत्म कर उसे तरक्की की अग्रिम पंक्ति में खड़ा किया जा सके। सीएम योगी के दफ्तर में शाम के 6 बजे से अलग अलग विभागों के अधिकारियों के पहुंचने का सिलसिला शुरु होता है। फिर शुरु होता है सभी विभागों के प्रेजेंटेशन का दौर और आधी रात बीतने के बाद बड़े फैसले पर सीएम रजामंदी की मुहर लगाते हैं।

ये भी पढें :

दिल्ली में AAP के दफ्तर पर लग गया ताला
बिक गया विजय माल्या का गोवा वाला किंगफिशर विला, जानेंगे नहीं किसने खरीदा
सीएम योगी ने चीनी मिल मालिकों को साफतौर पर कह दिया है कि गन्ना किसानों का बकाया अगले 15 दिनों में चुका दिया जाए। ऐसा नहीं करनेवालों पर कार्रवाई की जाएगी। यानि सरकार के इस आदेश के मुताबिक इस साल के गन्ने का बकाया 23 अप्रैल तक चीनी मिल मालिकों गन्ना किसानों को चुका देंगे।
इसके साथ ही गन्ना किसानों की मदद के लिए कॉल सेंटर तैयार किये जाएंगे और टोल फ्री नंबर जारी किया जाएगा। योगी सरकार ने प्रदेश के सभी चीनी मिल मालिकों को हर साल एक गांव को गोद लेने का आदेश दिया है। यूपी में 116 चीनी की मिलें हैं।
इसके साथ साथ एक और बड़ा फैसला लिया है सीएम योगी आदित्यनाथ ने। उन्होंने मायावती के कार्यकाल में 21 चीनी मिलों को बेचने में हुए घोटाले की जांच के आदेश दिये हैं। सीएम ने कहा है अगर जरुरत पड़ी तो इस मामले में सीबीआई जांच भी कराई जा सकती है। मायावती के कार्यकाल में 18 चीनी मिलें पॉन्टी चड्ढा को बेची गई थी।

चीनी मिलों की इस बिक्री में 1180 करोड़ के घोटाले का आरोप है। इसके अलावा मायावती के भाई आनंद कुमार की भी मुश्किल बढ़ती नजर आ रही है। शुक्रवार को आयकर विभाग ने आनंद कुमार से जुड़े एक दर्जन से ज्यादा फर्मों पर छापा मारा है। इस छापेमारी में कई अहम दस्तावेज जब्त किये गए हैं। दिल्ली और इसके आसपास के प्रतिष्ठानों पर पड़े इन छापों में कई बैंक अकाउंट का भी पता चला है। जिनमें नोटबंदी के दौरान 1.43 करोड़ रुपये जमा कराए गए थे।

Loading...

Leave a Reply