गोड्डा नगर परिषद चुनाव: नामांकन के आखिरी दिन उम्मीदवारों का रैला, किसके क्या दावे

गोड्डा/झारखंड:  गोड्डा नगरपरिषद चुनाव के आखिरी दिन गोड्डा समाहरणालय चुनाव में शामिल उम्मीदवारों और उनके दावों के बीच गुलजार रहा। हर पार्टी के उम्मीदवार के अपने दावे हैं और हर किसी को जीत अपनी जीत की उम्मीद। ये पहली बार है जब नगर परिषद चुनाव पार्टी के सिंबल पर लड़ा जा रहा है। लेकिन जिन्हें किसी पार्टी का बैनर नहीं मिला वो अकेले ही निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर मैदान में कूद पड़े।

अजीत सिंह, बीजेपी प्रत्याशी– बीजेपी ने नगर परिषद चुनाव में दो बार से नगर परिषद के चेयरमैन रहे अजीत सिंह पर अपना दांव खेला है। पार्टी ने उन्हें अध्यक्ष पद के लिए उम्मीदवार बनाया है। नामांकन के बाद उन्होंने अपनी जीत का दावा करते हुए कहा कि जनता उनके साथ है। जनता का भरोसा ही है जिसकी वजह से उन्हें लगातार दो बार चुनाव में जीत हासिल हुई।

ध्यान झा, कांग्रेस प्रत्याशी– कांग्रेस ने इसबार अपना दांव युवा चेहरे पर खेला है। पार्टी ने ध्यान झा को नगर परिषद चुनाव में अध्यक्ष पद का उम्मीदवार बनाया है। अपने दल बल के साथ नामांकन करने पहुंचे ध्यान झा को ये भरोसा है कि शहर में विकास का काम अवरूद्ध हो चुका है। अगर वो जीतकर आते हैं तो विकास के काम को एक नई दिशा दी जाएगी।

शेखर पाठक, जेएमएम प्रत्याशी– जेएमएम ने इसबार शेखर पाठक पर दांव लगाया है। अपना नामांकन दाखिल करने पहुंचे शेखर पाठक को जीत का पूरा भरोसा है। शेखर पाठक ने अपनी प्राथमिकताओं में कहा चुनाव जीतने के बाद शहर के फुटकर दुकानदारों के लिए काम करेंगे। हाल के दिनों में अतिक्रमण हटाने के दौरान कई फुटकर दुकानदार बेरोजगार हो गए। इसबार के चुनाव में उन फुटकर दुकानदारों का मुद्दा भी काफी गरम है।

जाहिद इकबाल, आरजेडी प्रत्याशी– राष्ट्रीय जनता दल ने जाहिद इकबाल को नगर परिषद अध्यक्ष पद के लिए उम्मीदवार बनाया है। जाहिद की प्राथमिकताओं में शहर में पेयजल, बिजली, स्वास्थ्य और फुटकर दुकानदारों की जिंदगी पटरी पर लाने के मुद्दे पर चुनाव मैदान में उतरे हैं। दलीय आधार पर हो रहे चुनाव में जब उनसे चुनौती के बारे में सवाल किया गया तो उनका कहना था कि हम पूरी ताकत से चुनाव लड़ेंगे। जनता हमारे साथ है।

बच्चू झा, आजसू प्रत्याशी– आजसू की तरफ से इसबार एक युवा पर दांव खेला गया है। नामांकन दाखिल करने आए बच्चू झा ने अपनी जीत के दावे करते हुए बताया कि जनता उनके साथ है। नगर परिषिद की मौजूदा व्यवस्था से जनता त्रस्त है। और उनकी प्राथमिकता विस्थापित रेहड़ी पटरी वालों को दोबारा से रोजगार दिलाने के साथ साथ शहर के विकास कार्यों को पूरा किया जाएगा।

मुस्तकिम अंसारी उर्फ छोटू, निर्दलीय प्रत्याशी– मुस्तकिम अंसारी निर्देलीय प्रत्याशी के तौर पर चुनाव मैदान हैं। चुकी पहली बार चुनाव दलीय आधार पर लड़ा जा रहा है। इसलिए चुनाव का समीकरण भी बदल गया है। ऐसे माहौल में निर्दलीय प्रत्याशी मुस्तकिम का कहना है कि अगर जनता उन्हें मौका देगी तो वो शहर की समस्याओं के लिए काम करेंगे।

Loading...