गोड्डा: डेंगू के संभावित मरीज की रिपोर्ट निगेटिव, संजीवनी के दावों पर सवाल

गोड्डा: डेंगू के संभावित मरीज की रिपोर्ट निगेटिव, संजीवनी के दावों पर सवाल

गोड्डा/झारखंड:  निजी अस्पताल ने जिस पांच साल के बच्चे में डेंगू होने की पुष्टि कर दी थी जब उसके ब्लड सैंपल की जांच स्वास्थ्य विभाग की तरफ से रिम्स में कराया गया तो रिपोर्ट निगेटिव आया। इसके बाद निजी अस्पताल के दावे पर भी सवाल उठ रहे हैं। रिम्स की तरफ से दिये गए निगेटिव रिपोर्ट के बाद अब स्वास्थ्य विभाग की तरफ से निजी अस्पताल को जरूरी निर्देश दिये गए हैं।

पिछले दिनों गोड्डा में ये चर्चा जोरों पर थी कि निजी अस्पताल संजीवनी में डेंगू का मरीज भर्ती है। संजीवनी के डायरेक्टर डॉ. धर्मेंद्र कुमार ने भी इस बात की पुष्टि की थी कि पांच साल के चंदन डेंगू पॉजिटिव है। और उसका इलाज आईसीयू में किया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग की तरफ से गठित जांच टीम में शामिल डॉ. उज्जवल ने बताया कि प्राइवेट अस्पताल में बच्चे को बेड पर देखा गया। उसे मच्छरदानी में नहीं रखा गया था। बुधवार (18 अक्टूबर) को उसका प्लेटलेट्स अस्पताल की रिपोर्ट में 21 हजार दिखाया गया है।

डॉ. बनदेवी झा, सिविल सर्जन, गोड्डा

इस मामले में प्रभारी सिविल सर्जन बनदेवी झा की तरफ से जांच टीम का गठन किया गया था। जिसने संजीवनी अस्पताल का दौरा किया था। इस दौरान डेंगू के संभावित मरीज का खून भी जांच के लिए लिये गए थे। जिसके बाद मरीज का सैंपल लेकर उसे रिम्स में जांच के लिए भेजा गया। रिम्स में हुई जांच में इस बात की पुष्टि की गई कि मरीज को डेंगू नहीं है। यानि रिपोर्ट निगेटिव था। डेंगू की निगेटिव रिपोर्ट आने के बाद अब माना जा रहा है कि कहीं निजी अस्पताल की तरफ से अपने फायदे के लिए तो इस बात को प्रचारित नहीं किया गया।

स्वास्थ्य विभाग की तरफ से संजीवनी अस्पताल को ये हिदायत दी जा रही है कि बिना पुख्ता जांच के डेंगू जैसे संवेदनशील बीमारी की पुष्टि ना की जाए। ये जरूरी भी है क्योंकि जल्दबाजी में आधे अधूरे जांच के बाद डेंगू की पुष्टि कर देने की वजह से लोगों का दहशत में आना वाजिब है।

दरअसल आमतौर पर डेंगू की जांच के लिए किट का इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन इस किट को भारत सरकार की तरफ से मान्यता नहीं दी गई है। डेंगू जांच किट (एनएस-वन) से कई बार इससे पहले भी भ्रामक रिपोर्ट सामने आ चुकी है। यही वजह है कि स्वास्थ्य विभाग ने बच्चे के ब्लड सैंपल को रांची के रिम्स में भेजा। जहां आई निगेटिव रिपोर्ट आई।

Loading...

Leave a Reply