गोड्डा से सांसद निशिकांत दुबे ने सुशांत सिंह की मौत की न्यायिक जांच की मांग की

गोड्डा/झारखंड:  14 जून को बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह ने खुदकुशी कर मौत को गले लगा लिया। लेकिन उनकी मौत अपने पीछे कई सवाल छोड़ गई। झारखंड के गोड्डा लोकसभा से बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे ने सुशांत सिंह की मौत की न्यायिक जांच की मांग की है। सवाल ये उठ रहे हैं कि आखिर वो क्या हालात रहे होंगे जिसकी वजह से सुशांत सिंह को खुदकुशी करना पड़ा। उनके परिवारवाले भी मान रहे हैं कि सुशांत खुदकुशी नहीं कर सकते। इसकी जांच होनी चाहिए।

बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे ने एक वीडियो शेयर किया है जिसमें उन्होंने लिखा है सुशांत सिंह राजपूत की मौत की न्यायिक जांच होनी चाहिए। इंडस्ट्री में व्याप्त माफियागिरी व सिंडिकेट को खत्म करने के लिए पूर्वांचल के कलाकारों को संघर्ष का बिगुल फूंकना चाहिए। पूरी मुंबई की फिल्म इंडस्ट्री हमारे भाषा और हमारे कारण चलती है। अब समय आ गया है, इस माफियागिरी को फिल्म बायकॉट का नारा देकर बंद करने का।

सुशांत सिंह का 15 जून को मुंबई में अंतिम संस्कार कर दिया। उनकी इस मौत पर पटना की सड़कों पर मंगलवार को प्रदर्शन हो रहे है। प्रदर्शन कर रहे लोगों का आरोप है कि सुशांत की मौत की सीबीआई जांच होनी चाहिए। प्रदर्शन कर रहे लोगों ने फिल्म डायरेक्टर करण जौहर समेत कई और बॉलीवुड कलाकारों के पुतले भी जलाए।

बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रणौत ने भी एक वीडियो शेयर किया है। जिसमें उन्होंने खुलकर बॉलीवुड में हावी नेपोटीज्म पर गुस्सा निकाला है। कंगना ने अपने वीडियो में कहा सुशांत सिंह राजपूत की मौत ने सभी को झकझोर कर रख दिया है। लेकिन कुछ जो इस मामले में माहिर हैं कि किस तरह पैनल नैरेटिव चलाना है वे बता रहे हैं कि कुछ लोगों का दिमाग कमजोर होता है। वो डिप्रेशन में आ जाते हैं और सुसाइड कर लेते हैं। वह इंजीनियरिंग के एंट्रेंस एग्जाम में रैंक होल्डर है। उसका दिमाग कमजोर कैसे हो सकता है।

भारत की महिला रेस्लर और बीजेपी की बबीता फोगट ने भी कंगना का समर्थन किया है। बबीता ने ट्वीटर पर लिखा फिल्म इंडस्ट्री करण जौहर की बपौती है क्या। इसको मुंहतोड़ जवाब क्यों नहीं देते। आगे लिखा कंगना रणौत बहन की बात मुझे काफी हद तक सही लगती है। जो लोग छोटे शहरों से आते हैं उनलोगों के साथ वहां इस तरह का भेदभाव होता है जो नहीं होना चाहिए। फिल्म इंडस्ट्री किसी की बपौती नहीं है। भाई भतीजावाद फिल्म इंडस्ट्री की सबसे बड़ी बीमारी है। मैंने खुद इसको काफी नजदीक से देखा है।

(Visited 100 times, 1 visits today)
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *