गो रक्षा के नाम पर एक शख्श की हत्या, संसद में भी उठा मामला

नई दिल्ली: राजस्थान में गो रक्षा के नाम पर तथाकथित गोरक्षकों की तरफ से पशु ले जा रहे 15 लोगों पर हमला किया गया। जिसमें पिटाई में बुरी तरह से घायल एक शख्श पहलू खान की मौत हो गई। भीड़ के द्वारा पीटे गए 15 लोगों में से चार लोगों की हालत गंभीर बनी हुई है। जिनमें से दो पहलू खान के बेटे भी शामिल है। गोरक्षकों के दल ने इनपर तब हमला किया जब ये पशुओं को ट्रक में लेकर जा रहे थे।

इस मामले पर राज्यसभा में हंगामा हुआ। बीजेपी सांसद मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा जिस तरह की घटना पेश की जा रही है वैसी कोई घटना नहीं हुई है। नकवी ने कहा गो रक्षा के नाम पर सरकार गुंडागर्दी को सपोर्ट नहीं करती है। ये मामला बेहद संवेदनशील है। और सदन से कोई गलत संदेश नहीं जाना चाहिए। इसपर कांग्रेस सांसद गुलाम नबी आजाद बोले मुझे बहुत अफसोस है कि मंत्री को इस बारे में कोई जानकारी नहीं है। कांग्रेस ने इस मामले पर स्थगन प्रस्ताव दिया।

ये भी पढें :

-हिंदू राष्ट्र का रास्ता सही, और क्या कहा CM योगी ने…देखिये पूरा इंटर्व्यू

-लालू के बेटे तेज प्रताप मिट्टी घोटाले में घिरे, विपक्ष ने मांगा इस्तीफा

पुलिस ने इस मामले में तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। लेकिन साथ ही पुलिस ने गाय ले जा रहे लोगों के खिलाफ पशु तस्करी का केस भी दर्ज किया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पशु लेकर जा रहे लोगों के पास जयपुर नगर निगम और दूसरे सरकारी विभागों की तरफ से जारी की गई पर्ची भी मौजूद थी। जिसे उनलोगों ने गोरक्षकों को दिखाया भी था।

इस हमले में मारे गए पहलू खान हरियाणा का रहनेवाला था। जानकारी के मुताबिक पर्ची दिखाने के बाद पशु लेकर जा रहे लोगों ने पर्चियां दिखाते हुए तथाकथित गोरक्षकों को कहा था कि वो जयपुर पशु मेले से इन्हें खरीदकर ला रहे हैं। पर्चियों में जयपुर नगर निगम को चुकाए गए पैसों की पर्ची भी शामिल थी। लेकिन उनकी किसी ने एक नहीं सुनी और पिटाई शुरु कर दी। हाईवे पर उनलोगों के पीकअप वैन से खींचकर उन्हें दौड़ा दौड़ा कर पीटा गया।

इस मामले पर राजस्थान के गृहमंत्री गुलाब चंद कटारिया ने इसे सही ठहराते हुए कहा कि गोरक्षकों ने सही काम किया। लेकिन साथ ही उन्होंने कानून को हाथ में लेने को गलत बताया।

Loading...