घर में पधारो गजानन: जानिये मूर्ति स्थापना का शुभ मुहुर्त क्या है

नई दिल्ली:  आज गणेश चतुर्थी है। आज से अगले 10 दिनों तक गणेश जी भक्तों के घर पर विराजमान होंगे। लोग आज ही भगवान गणेश की प्रतिमा अपने अपने घरों पर स्थापित कर रहे हैं। आपको पूजा का पूरा लाभ किस तरह से मिले और मूर्ति स्थापित और पूजन का सही मुहुर्त क्या है आईये जानते हैं।

भाद्रपद शुक्ल चतुर्थी को मनाया जाने वाला गणेशोत्सव के बारे में माना जाता है कि इसी दिन भगवान गणेश का प्राकाट्य हुआ था।

मान्यता ये है कि इस दिन भगवान गणेश धरती पर आकर भक्तों की मनोकामना पूरी करते हैं

गणेश चतुर्थी की पूजा अनंत चतुर्दशी तक चलती है। इन दस दिनों तक भगवान गणेश धरती पर ही विराजमान रहते हैं।

इसबार गणपति की स्थापना का शुभ मुहुर्त दोपहर 12:00 बजे से 01:30 तक होगा।

गणपति की पूजन विधि

गणेश जी की प्रतिमा की स्थापना दोपहर के वक्त करें। प्रतिमा के साथ कलश भी स्थापित करें।

आसन में पीले रंग का वस्त्र का प्रयोग करें और उसपर मूर्ति स्थापित करें

मूर्ति की स्थापना करते वक्त इस मंत्र का जाप करें ऊं वक्रतुण्ड़ महाकाय सूर्य कोटि समप्रभ। निर्विध्नं कुरू मे देव, सर्व कार्येषु सर्वदा।

इस फलाहार करना ज्यादा उचित माना जाता है। फलाहार के अलाव जलीय आहार भी ग्रहण कर सकते हैं।

शाम के वक्त संध्या आरती करते वक्त गणेश जी के सामने घी का दीपक जलाएं

गणपति को लड्डू का भोग लगाएं। साथ में दूब भी अर्पित करें

चंद्रमा को नीची दृष्टि से अर्घ्य दें क्योंकि चंद्र दर्शन से आपको अपयश मिल सकता है।

Loading...

Leave a Reply