दिल्ली को पूर्ण राज्य बनाने के लिए केजरीवाल उंगली टेढ़ी करेंगे !

कुछ दिनों की खामोशी के बाद एक बार फिर दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल मैदान में हैं। बिपश्यना से लौटने के बाद पहले पार्टी ने विधानसभा चुनाव की तैयारी की उसके बाद केजरीवाल ने मोदी सरकार पर निशाना साधा है। दिल्ली को पूर्ण राज्य बनाने की अपनी मांग को लेकर केजरीवाल ने कहा ‘जब ठान लिया है कि जनता के लिए ये काम करेंगे तो करके रहेंगे। चाहे इसके लिए कुछ भी करना पड़े।‘ केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए केजरीवाल ने कहा ‘ये बड़े गुंडे हैं ऐसा नहीं माननेवाले। सीधी उंगली से जब घी नहीं निकलती तो उंगली को थोड़ी टेढ़ी करनी पड़ती है।‘

अधिकारों की लड़ाई पर दिल्ली हाईकोर्ट ने साफ कर दिया है कि दिल्ली सरकार जो भी फैसले लेगी उसपर उप राज्यपाल की मंजूरी जरुरी है। कोर्ट का ये फैसला दिल्ली सरकार के लिए किसी बड़े झटके से कम नहीं था। क्योंकि उस फैसले से पहले तक दिल्ली सरकार की दलील ये होती थी कि उन्हें जनता ने चुना है इसलिए वो अपने फैसले खुद ले सकते हैं। लेकिन चुकी दिल्ली पूर्ण राज्य नहीं है इसलिए कोर्ट ने आदेश दिया था कि दिल्ली सरकार का फैसला तभी मान्य होगा जब उसपर उपराज्यपाल से मंजूरी ली जाएगी।

इसके बाद बैकफुट पर आई दिल्ली सरकार उस हताशा को पीछे छोड़कर एकबार फिर टकराव के लिए अपनी तैयारी का इजहार कर रही है। जिस पूर्ण राज्य की मांग केजरीवाल की दिल्ली सरकार कर रही है फिलहाल उसके पूरे होने की उम्मीद काफी कम है। ऐसे में जिस तरह के तेवर सीएम केजरीवाल ने दिखाए हैं उससे साफ हो जाता है कि एक बार फिर दिल्ली सरकार और केंद्र सरकार के बीच टकराव की जमीन तैयार हो रही है।

Loading...

Leave a Reply