arun-jetly-pc

GST से जुड़े चार बिल लोकसभा में पेश किये गए, जानिये क्या है GST?

GST से जुड़े चार बिल लोकसभा में पेश किये गए, जानिये क्या है GST?




नई दिल्ली: वित्त मंत्री अरुण जेटली ने GST से जुड़े चार बिल को लोकसभा में पेश कर दिया है। इनमें C GST, I GST, UT GST और मुआवजा कानून शामिल है। संसद का मौजूदा सत्र 12 अप्रैल तक चलेगा। सूत्रों के मुताबिक सरकार संसद के दोनों सदनों में इसपर चर्चा चाहती है। सरकार 1 जुलाई से GST को लागू करने की तैयारी में है।

GST लागू होने के बाद उत्पाद, सेवा कर, वैट और दूसरी स्थानीय शुक्ल इसी में शामिल होंगी। इसके लिए अलग से कोई कर नहीं लगेगा।
क्या है C GST, I GST, UT GST?

C GST- C GST में केंद्र सरकार की तरफ से लगाए जानेवाले सेंट्रल एक्साइज ड्यूटी, सर्विस टैक्स, एडिशनल कस्टम ड्यूटी, स्पेशल एडिशनल कस्टम ड्यूटी, सेंट्रल सेल्स टैक्स के साथ कई तरह के सरचार्ज और सेस मिल जाएंगे।

ये भी पढें :

– अंडा-चिकन की दुकान पर रोक नहीं, केवल अवैध बूचड़खानों पर ही कार्रवाई-यूपी सरकार
– आधार पर सरकार को सुप्रीम कोर्ट से झटका वेलफेयर स्कीम के लिए आधार जरूरी नहीं-SC

I GST- I GST में राज्य सरकारों की तरफ से लगनेवाले वैल्यू एडेड टैक्स यानि वैट, ऑक्सट्रॉय और इंट्री टैक्स, परचेज टैक्स, लग्जरी टैक्स, लॉटरी पर लगनेवाले टैक्स और तमाम सेस और सरचार्ज मिल जाएंगे। वहीं दो राज्यों के बीच होनेवाले कारोबार पर I GST लगेगा।
क्या है GST?

GST यानि गुड्स एंड सर्विस टैक्स के लागू होने से अबतक लगनेवाले तमाम अलग अलग तरह के टैक्स खत्म हो जाएंगे। GST लागू होने से चुंगी टैक्स, सेंट्रल सेल्स टैक्स, राज्य स्तर के सेल्स टैक्स या वैट, एंट्री टैक्स, स्टैंप ड्यूटी, टीलीकॉम लाइसेंस फीस, टर्नओवर टैक्स, बिजली के इस्तेमाल या बिक्री पर लगनेवाले टैक्स और सामान के ट्रांसपोर्टेशन पर लगनेवाले टैक्स खत्म हो जाएंगे।

Loading...

Leave a Reply