महिलाओं के बुर्का पर दारूम उलूम देवबंद ने जारी किया फतवा

नई दिल्ली:  दारुल उलूम देवबंद ने मुस्लिम महिलाओं को लेकर फतवा जारी किया है। फतवे में कहा गया है कि महिलाएं चुस्त और चमक दमक वाला बुर्का ना पहनें। क्योंकि इस तरह के बुर्का से महिलाएं पुरुषों को आकर्षित करने की कोशिश करती हैं। इसलिए इस तरह का बुर्का पहनना नाजायज है। ये फतवा दारुल उलूम के तीन सदस्यीय खंडपीठ की तरफ से जारी किया गया है।

दारुल उलूम देवबंद का ये फतवा खुद में काफी हास्यास्पद है। क्योंकि एक तरफ जहां महिलाओं को पुरुषों के समान अधिकार देने की बात हो रही है वहीं दूसरी तरफ महिलाओं के बुर्का पर फतवा जारी किया जा रहा है। इस फतवा को कई इस्लाम के जानकारा भी सही मान रहे हैं। उनका कहना है कि महिलाओं का बुर्का बेहद सादगी वला होना चाहिए। उसमें किसी तरह की कसीदाकारी नहीं होनी चाहिए।

इस फतवे का एक मतलब ये भी है कि अब मुस्लिम औरतों को अपनी मर्जी से बुर्का पहनने का भी अधिकार नहीं है। उन्हें किस तरह का बुर्का पहनना है इसका फैसला भी दारुल उलूम की तरफ से किया जाएगा। हलांकि इस तरह का फतवा पहले भी जारी किया जाता रहा है। जिसमें औरतों के जींस पहनने को गलत बताया जाता था।

Loading...