दुमका: पुलिस-नक्सली मुठभेड़ में 10 लाख का इनामी जोनल कमांडर मारा गया

दुमका/झारखंड:  रविवार का दिन पुलिस के लिए बड़ी कामयाबी का दिन रहा। दुमका जिले के शिकारीपाड़ा थानाक्षेत्र में नक्सलियों के साथ हुए मुठभेड़ में संताल परगना का जोनल कमांडर सहदेव राय उर्फ ताला दा मारा गया। मुठभेड़ वाली जगह से इनसास साइफल, एक AK 47 समेत कई हथियार बरामद हुए हैं। सहदेव राय की तलाश कई मामलों में हो रही थी। सहदेव राय एसपी अमरजीत बलिहार हत्याकांड में भी आरोपी था।

2 जुलाई 2013 को पाकुड़ के तत्कालीन एसपी अमरजीत बलिहार हत्याकांड के बाद से ही पुलिस उसकी तलाश कर रही थी। कई बार उसका पुलिस के साथ आमना-सामना भी हुआ, लेकिन हर बार वो बच निकलता था। लेकिन इसबार पुलिस की घेराबंदी के सामने उसकी बच निकलने की सारी कोशिश नकाम साबित हुई और वो मारा गया।

पुलिस और नक्सलियों के बीच ये मुठभेड़ शिकारीपाड़ा थानाक्षेत्र के छातुपाड़ा गांव के पास हुई। इस जगह पर ताला अपने 20 साथियों के साथ कैंप किये हुए था। ताला काठीकुंड के बड़ा सरूवापानी गांव का रहनेवाला था। सटीक सूचना और सधी रणनीति ने पुलिस को ये कामयाबी दिलाई है। पुलिस की गोली से कई नक्सलियों के घायल होने की भी खबर है।

इस मुठभेड़ पर संताल परगना रेंज के डीआईजी राजकुमार लकड़ा ने कहा ये पुलिस के लिए बड़ी कामयाबी है। ताला के मारे जाने से नक्सलियों की कमर टूट गई है। उन्होंने कहा पुलिस और एसएसबी के जवानों की मदद से ये कामयाबी मिली है। वहीं एसपी वाई एस रमेश ने कहा ये इनपुट थी कि नक्सली रंगदारी रंगदारी लेने के लिए आया हुआ है।

रविरार सुबह 7 बजे हुए मुठभेड़ में ताला को मार गिराया गया। मौके से काफी तादाद में कारतूस बरामद हुए हैं। नक्सली 20 की तादाद में थे। जिनमें से तीन महिला नक्सली भी शामिल थी। दोनों तरफ से तकरीबन 500 राउंड गोली चली। नक्सली अपने घायल साथियों को लेकर फायरिंग करते हुए जंगल में भागने में कामयाब रहे। जंगल की घेराबंदी कर सर्च अभियान चलाय जा रहा है।

(Visited 87 times, 1 visits today)
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *